रंडी भाभी के कारण मुझे चुदाई नसीब हुई


मेरा नाम कोमल है और मैं चंडीगढ़ में रहती हूँ। मेरी उम्र इस वक़्त 32 साल है, अभी तक शादी नहीं हुई है। वजह है मेरा बेडोल मोटा शरीर, काला रंग और बेहद साधारण से नैन नक़्श। मतलब यह कि मुझमें ऐसी कोई भी बात नहीं जिससे कोई मेरी तरफ आकर्षित हो। इसी वजह से अब तक जितने भी लड़के मुझे देखने आए, सब मुझे रिजैक्ट करके चले गए।

घर में एक माँ है जो लकवा से पीड़ित है और पिछले कई सालों से बिस्तर पर ही है, उसकी सारी देखभाल मेरे ज़िम्मे है, एक भाई है जो टैक्सी चलाता है, एक भाभी है जो सच कहूँ तो एक परले दर्जे की लुच्ची औरत है, एक भतीजी है जो स्कूल में पढ़ती है।

भाई के अक्सर घर से बाहर रहने का फायदा भाभी अपनी मनमर्ज़ी करके उठाती है। मुझसे ठीक बोलती है पर मैं उसे दिल से पसंद नहीं करती।

बात है कई साल पहले की, पिताजी की मौत के बाद भाई ने टैक्सी संभाल ली। पिताजी की मौत के सदमे से माँ को लकवा मार गया। उस वक़्त भाई और भाभी की शादी को सिर्फ दो साल ही हुये थे। पिताजी के ज़िंदा रहते तो भाभी ठीक रही, पर जब भाई ने टैक्सी चलनी शुरू की और कई बार उसे रात को भी बाहर रहना पड़ता था तो भाभी ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया।

जिस घर में हम रहते थे, वो एक बहुत बड़ी से पुरानी हवेली थी। जिसमें बहुत से कमरे थे और बहुत सारे किरायेदार थे, किसी के पास एक कमरा था तो किसी के पास दो। सब आपस में मिलजुल कर रहते थे, और कभी भी कोई भी किसी के भी घर आ जाता था।

यह कहानी भी पड़े सफ़र की दोस्ती ओर चुदाई

अब भाभी गोरी चिट्टी, पतली लंबी और सुंदर थी, तो हमारे पड़ोस में ही सब उसके हुस्न के दीवाने थे, और ऊपर से भाभी का सब के साथ खूब खुल के हंसना-बोलना। तो भाभी को कोई ज़्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी और बहुत जल्द भाभी ने हर वो शख्स जो उसे अच्छा लगा उसकी मर्दानगी का स्वाद चख लिया।

हमारे पास दो कमरे थे, एक में भाई भाभी का बेडरूम कम ड्राईंग रूम था दूसरे छोटे कमरे में मेरा और माँ का बेडरूम कम स्टोर था। उसके आगे किचन और साथ में बाथरूम था। तो जब भी भाई की गैर मौजूदगी में भाभी रात को अपने किसी यार के साथ रात रंगीन कर रही होती तो उसकी आवाज़ें हमारे कमरे तक आती।

माँ अंदर ही अंदर बहू की बेहयाई पर कुढ़ती और मैं अपनी किस्मत पर, कि सब उसकी मार रहे हैं, मेरी तरफ कोई देखता भी नहीं। इतना ही नहीं मेरी क्लास में भी मेरी फ़्रेंड्स जैसे, किरण, सीमा, पुनीत सबके बॉय फ़्रेंड्स उनके साथ मज़े करते पर मेरी तरफ कोई नहीं देखता था। पुनीत की तो मैं चौकीदार थी, जब रिसेस्स में वो क्लासरूम में अपने यार के साथ हुस्न की बहारें लूटती तो मुझे गेट पर खड़ा करती ताकि किसी के आने पर मैं उन्हें खबर कर दूँ।

इसका इनाम मुझे यह मिलता के कभी कभी मुझे उसके बॉय फ्रेंड का लण्ड हाथ में पकड़ने या चूसने को मिल जाता। वो भी कभी कभी मेरे बूब्स दबा देता था। पर कोई सिर्फ मेरा हो ऐसा ना हो सका। पुनीत मेरे सामने अपनी स्कर्ट उठा कर अपने यार का लण्ड अपनी चूत में ले लेती और मैं उसे देखती और सिर्फ अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी चूत मसल के रह जाती।

यह कहानी भी पड़े चचेरी और फुफेरी बहन की सील तोड़ी 2

स्कूल में सहेलियाँ और घर में भाभी का नंगापन देख कर मैं भी चाहती थी कि कोई मुझे जी भर के चोदे, पर मेरी शक्ल के कारण कोई मुझे नहीं देखता था।

माँ भी मेरा हाल समझती थी पर कर कुछ नहीं सकती थी। भाभी का तो यह हाल था कि रात को चुदने के बाद वो अक्सर नंगी ही सो जाती थी, सुबह जब मैं उसे उठाती तो अक्सर उसके बदन पर नोच-खसोट और पुरुष वीर्य के निशान देखती। भाभी को भी मेरे सामने नंगी होने से कोई फर्क नहीं पड़ता था। शायद वो यह जताना चाहती थी, कि देख मैं कितनी सुंदर हूँ और कितने लोग मुझ पर मरते हैं। मैंने कई बार भाभी से पूछा- भाई में क्या कमी है जो तुम औरों से भी ये सब करती हो?

तो वो कहती- कोई कमी नहीं, पर मुझे ज़्यादा चाहिए, मैं भरपूर संभोग सुख चाहती हूँ, जो सिर्फ तुम्हारा भाई नहीं दे सकता, वो मैं औरों से ले लेती हूँ। तेरा दिल करता है तो तू भी ले ले !

पर मैं क्या बताऊँ के मुझे तो कोई देखता भी नहीं।

फिर एक बार होली की बात है, जब मेरी किस्मत बदली। होली पर भाई के कुछ दोस्त होली खेलने हमारे घर आये, उनमें वीरू भी था। पतला, गोरा खूबसूरत नौजवान। उसे देखते ही मेरा दिल उस पर आ गया। सबने होली खेली इधर भाग, उधर भाग, घर की और सब मर्द औरतों और लड़के लड़कियों ने जम के होली खेली, पर मुझे सिर्फ लड़कियाँ ही रंग लगाने आई।

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


सेकसी वीडियो फोकी।मै।लढ।ढालते।हुऐ।आँटी ने बस में मेजे से चुदाईमेट्रो मे औरत को चोदेxxx history badi maa aur badi dediसेक्स हिंदी stories sale ki biwiलडकी ने पति के बदले ससुर के साथ सुहागरात मनायाantarvasna केवल माँ और हिंदी में samdhi सेक्स कहानियाँKhidki se dekhi chudai kahaniyaताई चुदाई की कहानीSwarg ka ehsas sex story in marathiनर्स हिंदी सेक्स स्टोरीचुदाई रात मैबोल बोल नहीं बोलती कहानियां डॉट कॉमगाँव की chudai की कहानीmom mere kamre me soyeसेक्सी लंड बुर की चुदाईसाली को चुपके से बोबे देखे Xxx storyधार्मिक मा का गदराया बदनJawan ladki ki chudaiSwarg ka ehsas sex story in marathiHathrash.hindi.chudai.khhaniममी के घाघरे में तीन लुंड सेक्स स्टोरीजwalnisexxचुत मे दॅद लड के लिएaunty ke parlor me unke sath saheli ko bhi chodaमाँ बेटी ननद भाभी की रंडी बनने वाली हिन्दी सेक्स कहानीfak mi yes ohh aaa सेक्स स्टोरीसाया उठा कर चाँदनी रात मे चुदवाई2 ladaki 1ladaka sex stories hindi अन्तर्वासना भाई बहन दारू पी केरिता कि चुदाईचुदाई में बेहोशी कहानीyatra me risto me hui chudai ki hindi storyदेवर राजा चोदो मेरी चुत को जोर जोर से कहानी हिंदी मेलण्ड घुसाने लगेstories masuka ki gaand me pelaxxx.vidio.pichhese.gand.mechodaiSex story chudked bibi aur builder Treesham sex kiya khub ganda sex storybaap beti sex storyकोमल की कामुक कहानिया हिंदी सेक्सी कहानियाँचुतsexy maa ki mast chudai keval petikot blauj meXxnxxx BHEJUR 2014पापा आंटी की चुदाईchodayboorचची की चुदाई बेटी के सामनेरिता कि चुदाईमेट्रो मे औरत को चोदेचूत की फांकेंChachi fufa or hamara naukar sex stories बुरTAI KI CHUDAI KI KHANIYAदो बांस और भाई hindi sexmaa chudi gundo se hindi s sex storyदोनो बेटेसे चुदि माँ कथाअन्तर्वासना काजलMaa ne unka raj bataya sex storilamba mota land ka romantik xxxncomKalawati ki chudaiटेबल पर बहु की चुदाई की कहानीभाभीकीचुदाईअंधे से hindi sex storieschudasi auntiyan storyमामी ने भांजे से चुदवाया सेक्स कहनिया चुदाई सफर मेंदीदी के सत रुओं में छोड़ाए किये हिंदी सेक्स स्टोरीdildo ko chut me liya aagBhabhi ke chakar me bahan ko chodaकपल ने थ्रीसम सेक्स का मज़ा लियाकविता आंटी के प्यार मे चुदाईकुतिया चोदनाचुतकी झलक Hindi sex storieswww.shadi mai ludhiana bali punjabn aunty ki chudai khani.inसांवली चूतसेक्सी कहानी लग्न बहनसमधी से चुदवायाmummy aur mummy ki beti ki jhhat banai hindi sex kahaniaDidi se mom ki cudai tak ka,sfar sex storyRitika sex but and chut ki kahani