कज़िन सिस्टर की रंडी सहेली


Click to this video!

हाय मैं चंदन आपने तो मेरी इंडियन सेक्स स्टोरीस “कज़िन सिस्टर ने जन्नत सैर करवाई” पढ़ी होगी ये 2न्ड पार्ट है. जब मालती और उसकी सहेली मज़ाक कर के चले गये तो मैं उठ के बाथरूम मे ब्रश कर रहा था अचानक मुझे रात का सारी बात याद आ गयी और मेरा लंड खड़ा होने लगा क्या करू कुछ समझ मे नही आ रहा था.

मैने देखा की बाथरूम मे मालती का पैंटी और ब्रा रखा हुआ है साफ करने के लिए मैने उसका पैंटी को सूंघने लगा मस्त स्मेल आ रहा था मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया और मैं मूठ मारने लगा.

10 मिनट मूठ मारने के बाद मेरा निकल ने ही वाला था की बुआ ने बाथरूम का डोर खोल दिया मैं इतना पागल था की डोर अंदर से क्लोज़ करना भूल गया था इधर बुआ डोर खोली उधर मेरा माल निकल गया वो कुछ सेकेंड के लिए देख रही थी और झट से डोर क्लोज़ कर दिया मुझे बुरा लग रहा था फिर मैने अपना काम करके बाहर आया.

तो बुआ बोली क्या हो रहा था अंदर एक दम घुस्से से देख के बोली मैं तो मर गया था मैने कहा कुछ नही बुआ वो ऐसा है की बोल रहा था की बुआ थोड़ा आराम से बोली तुम लोग इस एज मे ये सब करते हो मुझे पता है.

लेकिन डोर तो बंद कर लो मैने कहा सॉरी बुआ तो वो बोली चल छोड़ कोई बात नही चल लंच कर ले जल्दी मालती फोन की थी तुम लोग कही घूमने जओन्गे मैने कहा कान्हा तो बुआ बोली मुझे पता नही वो सिर्फ़ घूमने के बारे मे बात कर रही थी.

यह कहानी भी पड़े चस्का लगाया चाची ने चोदन का

मैने कहा ठीक है लंच ख़तम करके बैठा था की मालती आई और बोली तू अबतक रेडी नही हुआ है जा जल्दी रेडी हो जा मैं भी रेडी हो जाती हूँ फिर हम निकलते हैं मैं तैइय्यार हो गया मालती जब तैइय्यार होके आई तो मस्त लग रही थी वो एक टाइट जीन्स और टाइट टी-शर्ट मे थी एक दम माल लग रही थी हम फ़ूपा के बाइक लेके निकले वो एक दम चिपक के बैठ गयी.

उसके बूब्स एक दम चिपक के थे फिर कुछ दूर जाने के बाद अचानक मालती बोली गाड़ी रोक दे ये मेरी सहेली का घर है थोड़ा मिलके चलते हैं मैने कहा ठीक है फिर हम घर के अंदर गये घर मे कोई नही था डोर खुला हुआ था हम लोग अंदर चले गये अंदर जाके मालती ने डोर क्लोज़ कर दिया और बोली तू बैठा रह मैं थोड़ी देर मे आती हूँ मैने कहा ठीक है ऐसेही मैं बैठा रहा.

15-20 मिनट हो गया मालती नही आई फिर अचानक पायल की आवाज़ आई मैने देखा की 3 लड़की साड़ी मे थी और तीनो के हाथ मे ग्लास थे ग्लास मे दूध था और तीनो घूँघट मे थी मेरे सामने आके रुक गयी कुछ नही बोली मैने पूछा कौन हो आप तो कुछ नही बोली चुप चाप खड़ी थी मैं थोड़ा हिमत करके घूँघट उठाया तो एक मालती की फ्रेंड थी उसने कहा मैं मालती की फ्रेंड सरिता हूँ.

फिर मैने दूसरी का घूँघट उठाया तो उसने बोली मैं मालती की फ्रेंड पूजा हूँ उसके पास की लड़की का जब घूँघट उठाया तो वो बोली मैं मालती हूँ और तीनो हसने लगी मैं उसकी सहेली का नाम नही जानता था फिर मैने कहा ये क्या चल रहा है तो सरिता बोली तुमने कहा था जब मैदान खाली मिल जाए तो मुझे बुला लेना आज मैदान खाली हैं तो बुला लिया देख ते हैं कितना सिक्स मारते हो.

यह कहानी भी पड़े खूबसूरत प्रज्ञा मैडम की क्लास में ही चुदाई की

मैने कहा कोई आएँगा तो मालती बोली तू डरता बहुत है कोई नही आएगा ये सरिता का घर है उसकी मम्मी पापा शादी मे गये हुए है रात 11 बजे लोटेंगे मैने कहा ये सब गेटूप किस लिए तो पूजा बोली कुछ देर के लिए तुम हमारे पति और हम तीनो आपकी पत्नियाँ और आज हमारा सुहागरात मैने कहा क्या मज़ाक है.

तो मालती बोली कोई मज़ाक नही तू दूध पी मैने कहा ठीक है मैं दूध पी रहा था की सरिता ने मेरा पैंट और चड्डी निकल दी इधर मैं दूध पी रहा था उधर तीनो मेरा लंड चूस रहे थे .ऐसे चूस रहे थे जैसे बहुत दिन से भूके हैं फिर मेरा दूध पीना ख़तम हो गया तीनो ने मुझे खड़ा किया और अपने साथ लेके बेडरूम को चले मैं वैसे ही बिना कपड़ो के था वो लोग साड़ी मे थे और मेरा लंड खड़ा हुआ था.

जब मैं बेडरूम गया तब मैं एक दम सर्प्राइज़ हो गया बेड फुलो से सज़ा हुआ था जैसे सच मे सुहाग रात हो फिर तीनो ने मेरे पास आए मैने उनकी साड़ी खिच ने लगा और खींच के साड़ी निकाल दिया फिर तीनो के पेटिकोट फिर उनका ब्लाउस कोई भी चड्डी और ब्रा नही पहना था सबका बूब्स मस्त था और चुत एक दम क्लीन था.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2


Online porn video at mobile phone