केले का भोज Part – 1


Click to Download this video!

यह एक ऐसी घटना है जिसकी याद दस साल बाद भी मुझे शर्म से पानी पानी कर देती है। लगता है धरती फट जाए और उसमें समा जाऊँ। अकेले में भी आइना देखने की हिम्मत नहीं होती।

कोई सोच भी नहीं सकता किसी के साथ ऐसा भी घट सकता है !!! एक छोटा सा केला।

उस घटना के बाद मैंने पापा से जिद करके जेएनयू (जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली) ही छोड़ दिया। पता नहीं मेरी कितनी बदनामी हुई होगी। दस साल बाद आज भी किसी जेएनयू के विद्यार्थी के बारे में बात करते डर लगता है। कहीं वह सन 2000 के बैच का न निकले और सोशियोलॉजी विषय का न रहा हो। तब तो उसे जरूर मालूम होगा। खासकर हॉस्टल का रहनेवाला हो तब तो जरूर पहचान जाएगा।

गनीमत थी कि पापा को पता नहीं चला। उन्हें आश्चर्य ही होता रहा कि मैंने इतनी मेहनत से जेएनयू (जवाहरलाल नेहरू विश्व विद्यालय, दिल्ली ) की प्रवेश परीक्षा पासकर उसमें छह महीने पढ़ लेने के बाद उसे छोड़ने का फैसला क्यों कर लिया। मुझे कुछ सूझा नहीं था, मैंने पिताजी से बहाना बना दिया कि मेरा मन सोशियोलॉजी पढ़ने का नहीं कर रहा और मैं मास कम्यूनिकेशन पढ़ना चाहती हूँ। छह महीने गुजर जाने के बाद अब नया एडमिशन तो अगले साल ही सम्भव था। चाहती थी अब वहाँ जाना ही न पड़े। संयोग से मेरी किस्मत ने साथ दिया और अगले साल मुझे बर्कले यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता में छात्रवृत्ति मिल गई और मैं अमेरिका चली गई।

लेकिन विडम्बना ने मेरा पीछा वहाँ भी नहीं छोड़ा। यह छात्रवृत्ति नेहा को भी मिली थी और वह अमरीका मेरे साथ गई। वही इस कारनामे की जड़ थी। उसी ने जेएनयू में मेरी यह दुर्गति कराई थी। उसने अपने साथ मुझसे भी छात्रवृत्ति के लिए प्रार्थनापत्र भिजवाया था और पापा ने भी उसका साथ होने के कारण मुझे अकेले अमेरिका जाने की इजाजत दी थी। लेकिन नेहा की संगत ने मुझे अमेरिका में भी बेहद शर्मनाक वाकये में फँसाया, हालाँकि बाद में उसका मुझे फायदा मिला था। पर वह एक दूसरी कहानी है। नेहा एक साथ मेरी जिन्दगी में बहुत बड़ा दुर्भाग्य और बहुत बड़ा सौभाग्य दोनों थी।

यह कहानी भी पड़े चुदवाया अपने दोस्त को बोयफ़्रेंड बनाकर

वो नेहा ! जेएनयू के साबरमती हॉस्टल की लड़कियाँ की सरताज। जितनी सुंदर उससे बढ़कर तेजस्वी, बिल्लौरी आँखों में काजल की धार और बातों में प्रबुद्ध तर्क की धार, गोरापन लिये हुए छरहरा शरीर, किंचित ऊँची नासिका में चमकती हीरे की लौंग, चेहरे पर आत्मविश्वारस की चमक, बुध्दिमान और बेशर्म, न चेहरे, न चाल में संकोच या लाज की छाया, छातियाँ जैसे मांसलता की अपेक्षा गर्व से ही उठी रहतीं, उच्चवर्गीय खुले माहौल से आई तितली।

अन्य हॉस्टलों में भी उसके जैसी विलक्षण शायद ही कोई दिखी। मेरी रूममेट बनकर उसे जैसे एक टास्क मिल गया था कि किस तरह मेरी संकोची, शर्मीले स्वभाव को बदल डाले। मेरे पीछे पड़ी रहती। मुझे दकियानूसी बताकर मेरा मजाक उड़ाती रहती। उसकी तुर्शी-तेजी और पढ़ाई में असाधारण होने के कारण मेरे मन पर उसका हल्का आतंक भी रहता, हालाँकि मैं उससे अधिक सुंदर थी, उससे अधिक गोरी और मांसल लेकिन फालतू चर्बी से दूर, फिगर को लेकर मैं भी बड़ी सचेत थी, उसके साथ चलती तो लड़कों की नजर उससे ज्यादा मुझ पर गिरती, लेकिन उसका खुलापन बाजी मार ले जाता। मैं उसकी बातों का विरोध करती और एक शालीनता और सौम्यता के पर्दे के पीछे छिपकर अपना बचाव भी करती। जेएनयू का खुला माहौल भी उसकी बातों को बल प्रदान करता था। यहाँ लड़के लड़कियों के बीच भेदभाव नहीं था, दोनों बेहिचक मिलते थे। जो लड़कियाँ आरंभ में संकोची रही हों वे भी जल्दी जल्दी नए माहौल में ढल रही थीं। ऐसा नहीं कि मैं किसी पिछड़े माहौल से आई थी। मेरे पिता भी अफसर थे, तरक्कीपसंद नजरिये के थे और मैं खुद भी लड़के लड़कियों की दोस्ती के विरोध में नहीं थी। मगर मैं दोस्ती से सेक्स को दूर ही रखने की हिमायती थी

यह कहानी भी पड़े दीदी को चोदने का मूड बन गया

जबकि नेहा ऐसी किसी बंदिश का विरोध करती थी। वह कहती शादी एक कमिटमेंट जरूर है मगर शादी के बाद ही, पहले नहीं। हम कुँआरी हैं, लड़कों के साथ दोस्ती को बढ़ते हुए अंतरंग होने की इच्छा स्वाभाविक है और अंतरंगता की चरम अभिव्यक्ति तो सेक्स में ही होती है। वह शरीर के सुख को काफी महत्व देती और उस पर खुलकर बात भी करती। मैं भारतीय संस्कृति की आड़ लेकर उसकी इन बातों का विरोध करती तो वह मदनोत्सव, कौमुदी महोत्सव और जाने कहाँ कहाँ से इतिहास से तर्क लाकर साबित कर देती कि सेक्स को लेकर प्रतिबन्ध हमारे प्राचीन समाज में था ही नहीं। मुझे चुप रहना पड़ता।

पर बातें चाहे जितनी कर खारिज दो मन में उत्सुकता तो जगाती ही हैं। वह औरतों के हस्तमैथुन, समलैंगिक संबंध के बारे में बात करती। शायद मुझसे ऐसा संबंध चाहती भी थी। मैं समझ रही थी, मगर ऊपर से बेरुखी दिखाती। मुझसे पूछती कभी तुमने खुद से किया है, तुम्हारी कभी इच्छा नहीं होती! भगवान ने जो खूबियाँ दी हैं उनको नकारते रहना क्या इसका सही मान है? जैसे पढ़ाई में अच्छा होना तुम्हारा गुण है, वैसे ही तुम्हारे शरीर का भी अच्छा होना क्या तुम्हारा गुण नहीं है? अगर उसकी इज्जत करना तुम्हें पसंद है तो तुम्हारे शरीर ……

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


भाभी की चुदाई वीडियो साड़ी ब्लाउज मुझे bnyan pehene huy पेटीकोटबुआ के साथ शेकश कहानीWww.sexbaba.com/SamuhikSex kahaniya/बर्थडे गिफ्टHindi porn stories akhodekhiachche figar wali antiya//buyprednisone.ru/shabana-ko-chod-ke-lakhpati-bana/मैंने उसकी गांड को चोद के उसका छेद बड़ा कर दियाkamsin nanad ki chudai training hindi meआंटी ने माँ को चुदवायामाँ की चुदाई पडोस के पत्ती के दोस्त सेदेसी चूत नईmangalsutra bra antarvasnabagabahar sex vidyoGarndmari.behen.ki.hindi.meMaa ki iccha bete ne puri kiपरिवार मे चुदाई - ये कैसा ससुरालरोज अपने भाई का लौड़ा चूसती हूँWww.sexbaba.com/Samuhikपैसे के लिए छूट छुड़वाईHindi chudai baba guru mota lund jabardasti khun dard sex kahaniभाभी ने कहा खूब चोदो मेरे देवर राजा सेक्स स्टोरीcondom chalate Hai ladkiyon ki sexy video WhatsAppपरिवार में हगते मूतते गंदी चुदाई की कहानीmaa ne beti ko chudai sikhayi 2मेरी जिद्द दीदी की चूत सेक्स स्टोरीरहम मत कर, तू मुझे एक रंडी की तरह चोद,हिन्दी सेक्स स्टोरीकविता आंटी के प्यार मे चुदाईphimsetmyhangहिंदी सेक्स स्टोरी माँ और नौकरानी और मेरा घरअन्तर्वासना सेक्स स्टोरी पति के सामने चुदाई मेरी चुतmajor sahb deenu pani kitchenmaa ki chut me ice-cream sex storie चुत चोदवा बोल कर Malboos kiss sex videoमेरी जिद्द दीदी की चूत सेक्स स्टोरीभीगे कपड़ों में लड़की की चुदाई सेक्स स्टोरीरेलगाडी मेँ माँ चूदाई दिन मेँbehan ki nukili chuchiammi ki chudai toor meका नाड़ा खोल सेक्स स्टोरीजअन्तर्वासना ताई कीसेक्स स्टोरी भाभी ने कहा जोर से पेलो मेरे राजापरिवार,कि,चुत,चुदाओPati patni ki alagsex krne ki khaniyaबुवा को चुदते देखाantervsna aunti or bhabhiपूछने लगी तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंडदीदी के सामने बैठकर मुठ मारआंतों की गांड कैसे माराकोई देख लेगा सेक्स स्टोरीजमाँ ने मौसी को मुझसे चूदाईmashab ne medam ki choodai ki kahanidesi pabhi hanjra wali pabhisex pati ptni ki sachchi suhaagrat story jisme pyar ho hawas nhiजोर जोर से करो बेटा सेक्स हिंदी कहानीanterwsna saschacheri behan ko kapde badalte dekha baad mai chudai ki sexy storyस्टोरी मोटा लंड मराठीhalala ke bad chudwaimom ne muje chudai shikhai hindiचूत का मजा लेना सिखायाभाई ने धोखे से चुदाई कीhule bud chudaimaderchod beta Hindi sex storynoukari chahiye to biwi aur ma chudwani padegiek. reshmi. ehsas. bur. chudai. storyआंटी कमर के लडके चुदवाईकंट्रोल नहीं कर पाई छोड़ने के लिएसविता भाभी की सचित्र सेक्स कहानीपति बदल कर चुदाई कीमूत पीकर चूत का मजाससुराल में सलहज की चुदाई कीतै की चुदाई देसी बीस कॉमचुचीmame ne didi ko chudwaya होंटो पर लन्डMaa ki chudai malish kahaniहाम बिसतरीरोज अपने भाई का लौड़ा चूसती हूँदीदी bivi ke kapdey pehnaker चुदाई kahaniyaबीबी के बदले दीदी की अंधेरे में चुदाई कर लेने की कहानीदिदी कौ सामूहीक चूदाईantar vasana 2018Ma ki pyas bujhti nehi sex storissax.kahane.dost.mame.kexxx palai anty kahaneya hindeshuhagrat pe gannd msrisex storyभाई मेरी चूत फाड़ेगा क्यावीवी की चुदाई गेर के साथSuhagrat ki sexy video Dheere Dheere Kapda Utaraकहानियाँ चाची और मौसी एक साथजवान बेटी को चोदना सिखायारोज की चुदाईचोदा चोदी की फोटोAntrwasna maa bete ka randipan indan sexmom ke sath kheton me sexy story inhindi antarwasnamom ne muje chudai shikhai hindi