केले का भोज Part – 3


Click to Download this video!

“निशा, सुन रही हो ना। अगर मना करना है तो अभी करो।”

“निशा, तुम…. मैं नहीं चाहता, लेकिन इसमें तुम पर… कुछ जबरदस्ती करनी पड़ेगी, तुम्हें सहना भी होगा।” सुरेश की आवाज में हमदर्दी थी। या पता नहीं मतलब निकालने की चतुराई।

कुछ देर तक दोनों ने इंतजार किया,”चलो इसे सोचने देते हैं। लेकिन जितनी देर होगी, उतना ही खतरा बढ़ता जाएगा।”

सोचने को क्या बाकी था ! मेरे सामने कोई और उपाय था क्या?

मेरी खुली टांगों के बीच योनिप्रदेश काले बालों की समस्त गरिमा के साथ उनके सामने लहरा रहा था।

मैंने नेहा के हाथ के ऊपर अपना हाथ रख दिया- जो सही समझो, करो !

“लेकिन मुझे सही नहीं लग रहा।” सुरेश ने बम जैसे फोड़ा,”मुझे लग रहा है, निशा समझ रही है कि मैं इसकी मजबूरी का नाजायज फायदा उठा रहा हूँ।”

बात तो सच थी मगर मैं इसे स्वीकार करने की स्थिति में नहीं थी। वे मेरी मजबूरी का फायदा तो उठा ही रहे थे।

“खतरा निशा को है। उसे इसके लिए प्रार्थना करनी चाहिए। पर यहाँ तो उल्टे हम इसकी मिन्नतें कर रहे हैं। जैसे मदद की जरूरत उसे नहीं हमें है।”

उसका पुरुष अहं जाग गया था। मैं तो समझ रही थी वह मुझे भोगने के लिए बेकरार है, मेरा सिर्फ विरोध न करना ही काफी है। मगर यह तो अब …..

“मगर यह तो सहमति दे रही है !”, नेहा ने मेरे पेड़ू पर दबे उसके हाथ को दबाए मेरे हाथ की ओर इशारा किया। उसे आश्चर्य हो रहा था।

“मैं क्यों मदद करूँ? मुझे क्या मिलेगा?”

सुनकर नेहा एक क्षण तो अवाक रही फिर खिलखिलाकर हँस पड़ी,”वाह, क्या बात है !”

यह कहानी भी पड़े बस मे हिना को लंड चूसवाया

सुरेश इतनी सुंदर लड़की को न केवल मुफ्त में ही भोगने को पा रहा था, बल्कि वह इस ‘एहसान’ के लिए ऊपर से कुछ मांग भी रहा था। मेरी ना-नुकुर पर यह उसका जोरदार दहला था।

“सही बात है।” नेहा ने समर्थन किया।

“देखो, मुझे नहीं लगता यह मुझसे चाहती है। इसे किसी और को ही दिखा लो।”

मैं घबराई। इतना करा लेने के बाद अब और किसके पास जाऊँगी। सुरेश चला गया तो अब किसका सहारा था?

“मेरा एक डॉक्टर दोस्त है। उसको बोल देता हूँ।” उसने परिस्थिति को और अपने पक्ष में मोड़ते हुए कहा।

मैं एकदम असहाय, पंखकटी चिड़िया की तरह छटपटा उठी। कहाँ जाऊँ? अन्दर रुलाई की तेज लहर उठी, मैंने उसे किसी तरह दबाया। अब तक नग्नता मेरी विवशता थी पर अब इससे आगे रोना-धोना अपमानजनक था।

मैं उठकर बैठ गई। केले का दबाव अन्दर महसूस हुआ। मैंने कहना चाहा,”तुम्हें क्या चाहिए?”

पर भावुकता की तीव्रता में मेरी आवाज भर्रा गई।

नेहा ने मुझे थपथपाकर ढांढस दिया और सुरेश को डाँटा,”तुम्हें दया नहीं आती?”

मुझे नेहा की हमदर्दी पर विश्वास नहीं हुआ। वह निश्चय ही मेरी दुर्दशा का आनन्द ले रही थी।

“मुझे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए।”

“क्या लोगे?”

सुरेश ने कुछ क्षणों की प्रतीक्षा कराई और बात को नाटकीय बनाने के लिए ठहर ठहरकर स्पष्ट उच्चारण में कहा,”जो इज्जत इन्होंने केले को बख्शी है वह मुझे भी मिले।”

मेरी आँखों के आगे अंधेरा छा गया। अब क्या रहेगा मेरे पास? योनि का कौमार्य बचे रहने की एक जो आखिरी उम्मीद बनी हुई थी वह जाती रही। मेरे कानों में उसके शब्द सुनाई पड़े, “और वह मुझे प्यार और सहयोग से मिले, न कि अनिच्छा और जबरदस्ती से।”

यह कहानी भी पड़े आंटी और उनकी बेटी की चुदाई

पता नहीं क्यों मुझे सुरेश की अपेक्षा नेहा से घोर वितृष्णा हुई। इससे पहले कि वह मुझे कुछ कहती मैंने सुरेश को हामी भर दी।

मुझे कुछ याद नहीं, उसके बाद क्या कैसे हुआ। मेरे कानों में शब्द असंबद्ध-से पड़ रहे थे जिनका सिलसिला जोड़ने की मुझमें ताकत नहीं थी। मैं समझने की क्षमता से दूर उनकी

हरकतों को किसी विचारशून्य गुड़िया की तरह देख रही थी, उनमें साथ दे रही थी। अब नंगापन एक छोटी सी बात थी, जिससे मैं काफी आगे निकल गई थी।

‘कैंची’, ‘रेजर’, ‘क्रीम’, ‘ऐसे करो’, ‘ऐसे पकड़ो’, ‘ये है’, ‘ये रहा’, ‘वहाँ बीच में’, ‘कितने गीले’, ‘सम्हाल के’, ‘लोशन’, ‘सपना-सा है’…………… वगैरह वगैरह स्त्री-पुरुष की

मिली-जुली आवाजें, मिले-जुले स्पर्श।

बस इतना समझ पाई थी कि वे दोनों बड़ी तालमेल और प्रसन्नता से काम कर रहे थे। मैं बीच बीच में मन में उठनेवाले प्रश्नों को ‘पूर्ण सहमति दी है’ के रोडरोलर के नीचे रौंदती चली गई। पूछा नहीं कि वे वैसा क्यों कर रहे थे, मुझे वहाँ पर मूँडने की क्या आवश्यकता थी।

लोशन के उपरांत की जलन के बाद ही मैंने देखा वहाँ क्या हुआ है। शंख की पीठ-सी उभरी गोरी चिकनी सतह ऊपर ट्यूब्लाइट की रोशनी में चमक रही थी। नेहा ने जब एक उजला टिशू पेपर मेरे होंठों के बीच दबाकर उसका गीलापन दिखाया तब मैंने समझा कि मैं किस स्तर तक गिर चुकी हूँ। एक अजीब सी गंध, मेरे बदन की, मेरी उत्तेजना की, एक नशा, आवेश, बदन में गर्मी का एहसास… बीच बीच में होश और सजगता के आते द्वीप।

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


मेरी चुत लंड मांगरही हैbagabahar sex vidyoसेक्सी हिंदी कहानीdipaliछोटी बहन की चूत फारी गधे जैसे लण्ड सेchut kholo mujhe land dalna hanajneen ki chudai sex hindi story मा को ब्रा पसंत है सेक्सी हिंदी कहाणीseksi khaneeमैं दीवानी चुदाईछोटी बहन के छोटे स्तनlambe balo wali doli ko choda sex storyकुँवारा बदन चुदाई कहानीSex story meri mom abha part4बड़े भैया ने छोटी कमसिन बेहेन की प्यास बुझाई कामवासना कहानीभोषडे की ललकबड़ी गण्ड की मोटे छेद चुदाई सेक्स स्टोरीबुआ ने मेरा मोटा लंड देख चुदने से मना लियाबीवी और बहन की च**** ट्रेन मेंKapde utaare maine mami ketrean mom antarvasnaआज जोर से कि ग ई चूतchhinal bahu chudakkdलण्ड का कमालmombatti dalte dekh liya story xxxमेरे सामने sex storyमा ने किराए दार से चुदी और बहन की सील तोणी सेक्स ईसटोरीचूची ढीली कर डाली सेक्स स्टोरीSaxxxx xxx full gand marnahavili antarvasnaचूत में लंडसेक्स कहानियाँ बहन की मद्द से भाबी को चोदा तो चुत फट गयीXxxnnxxx मम्मी के सामनेdonolandchutmainफिगर चुतविडो माँ सेक्स कहानी हिंदीआआआआहह।sex story bhabhi ne chudwaya padosan bahane se shararatसेक्सी कहानी लग्न बहनचुदाईअपनीमेरे परिवार की गैंगबैंग चुदाई देखीantarvasna samdhi jiबहन को छोड़ा छत पे हिंदी सटोरिएआआआआहह।panchagani me biwi ki chudaimamme ne apne kmpne bos se chudwayaDesi new chutआज गांड फाड़ ही दोसाडी मेँ सेक्सी सीनantervasna khani ke sath ladki ne phone namber daleभुआ की चुदाईचुदक्कड़ सहेलियाँ गन्दी चुदाई कोई देख लेगा सेक्स स्टोरीजstanpan ki kamuk hindi kahaniyaचूची ढीली कर डाली सेक्स स्टोरी rich sas cudai kahaniचूतसविता भाभी की सचित्र सेक्स कहानीमूसल लड दीदी कूतियाBadsurat aurat Hindi sex storyShakira Hindi chudai bur ka Choda saal meinभाभीकीचुदाईPorn Babli kaki ghu hindi kahaniवीधवा भाभी ने मुठ मारी चुदाई की कहानीयाउषा भाभी कि चुत मे लडबुर लंड घुसाने की कविताaslam ka land chusa hindi sex storysali ki beti ka kuwara yovan cudai kahaniगलती से sex storyपापा से छुड़वाने के लिए माँ को मनायाकामुकता.कथा