माँ की तड़पती जवानी – 1


Click to Download this video!

चाचा से चुदवाने के तीसरे दिन हम भाई बहन स्कूल जा रहे थे, मोम ने बोला, बेटा स्कूल जाते हुए चाचा के घर में बोलते जाना की कल (सन्डे) घेर (हमारा गोलाकार बड़ा खेत) में हल लगाना है, चाची और दीदी (उनकी लड़की) को भी आने को बोलना. मैं चलते-चलते सोच रहा था की मोम सायद एक बार फिर चाचा के खच्चर जैसे लैंड का स्वाद लेना चाहती है लेकिन चाची और उनकी लड़की को भी बुलाया है तो मैंने अपने दिमाग से ये ख्याल निकाल दिया. घर में चाची मिली मैंने उनको बोला तो वो बोली- तेरी माँ ब्याई (बच्चा देना) है, पिसर (खीस- भैंस का बच्चा होने के सुरु कागाढ़ा दूध) खाने बुलाया है. मैं पता नहीं का जवाब देकर अपने स्कूल के लिए चल दिया. दोपहर को हम दोनों भाई बहन घर पहुंचे. अन्दर से बंद दरवाजा खटखटाया तो मोम ने दरवाजा खोला, मोम एक दम नंगी थी (नहाते हुए उठकर आयी थी), दरवाजा फिर बंद करने के बाद मोम नहाने लगी और हमको कपडे उतारकर अपने पास नहाने के लिए बुलाया (नहाने की जगह झोपड़ी के जानवर बांधने वाली साइड बनी थी). हम दोनों कपडे उतारकर मोम के पास जाकर बैठ गए. मोम नहा चुकी थी पर हमको नहलाने के लिए नंगी ही बैठी थी. पहले मोम ने सिस्टर को अपने सामने बिठाया और पानी डालकर अथला (पेड़ की छाल को कूट कर बनाया गया गुच्छा जो साबुन की तरह झाग देता है, गाँव में लोग उसी से नहाते थे, साबुन यूज नहीं करते थे ) उसके पुरे बदन पर मला (कई बार मोम की उँगलियों ने सिस्टर की घेहूँ की शकल जैसी चूत को रगडा). उसको नहलाने के बाद मेरा नंबर आया, मैं उनके सामने उनकी तरफ मुह करके बैठ गया, मोम ने पानी डाला और मैं अपनी आँख का पानी साफ़ करते-करते छिपी नज़रों से उनकी चूत देखने की कोसिस करने लगा पर झांटों और एक खाई (लाइन) के अलावा कुछ दिखाई नहीं दे रहा था. मोम के कहने पर मैं खड़ा हो गया और मोम पत्थर से मेरे घुटनो और पैर के पंजों पर जोर जोर से रगड़ने लगी. बीच-बीच में नोनी पर भी रगड़ देती. अब मोम भी खड़ी हो गयी और मेरे सर के ऊपर से पानी डालने लगी जिसके छींटें मोम के ऊपर भी पड़ रहे थे और पानी उनके पेट से सरकता हुवा उनकी झांटों पर अटक जाता, झांट के बालों से निकल कर कुछ तो बूंदे बन कर टपक जाती और कुछ नीचे सरकता हुवा दोनों टांगों के ठीक बीच से धार बन कर बह रहा था, लगरहा था जैसे वो मूत रही हो. अचानक मोम ने मेरी नोनी का फोरस्किन पीछे किया और लोटे से पानी डालते हुए उँगलियों से साफ़ कर ने लगी, मेरी नूनी कड़ी हो गयी. मोम, बदमास कही का बोलते हुए मेरे मुह पर देखने लगी. नहाने के दबाद मोम और मैं नंगे ही झोपड़ी के दूसरी तरफ आये जहाँ मेरी सिस्टर पहले से ही नंगी बैठी थी, मोम ने लकड़ी के सन्दुक से हमारे कपडे निकाल कर दिए और अपना पेटीकोट निकाल कर सर के ऊपर से पहनते हुए कमर में नाडा बाँधा, ब्लाउज पहना और फिर धोती. खाना खाने के बाद हम तीनो दरवाजे के सामने बिछी दरी (हमेसा बिछी रहती है) पर सो गए. नेक्स्ट डे मोम जल्दी उठ गयी थी, मुझे भी जल्दी उठा दिया नास्ता किया और बोली मैं घेर में जाऊंगी छोटी (सिस्टर) उठेगी तो नास्ता खिला देना. थोड़ी देर में चाचा, चाची और उनकी लड़की बैलों को लेकर आये, मोम ने उनको चाय पिलाई फिर उनके साथ घेर में चली गयी. थोड़ी देर में सिस्टर उठी, हम दोनों २ नंबर के लिए झोपड़ी के पीछे की तरफ बने खेत में गए, थोड़ी दुरी बनाकर हम दोनों बैठ गए. मैंने देखा बैठते ही सिस्टर की नन्ही सी चूत से लम्बी पिशाब की धार छुटी और मेरी नोनी से भी. घर आकर हमने पानी से साफ़ करने के बाद मैंने छोटी को नास्ता दिया, जूठे बर्तन धोने के बाद मैंने छोटी को खिड़की के पास बिछे बिस्तर पर बुलाया जिसपर चाचा ने मेरी मोम को जबरदस्त तरीके से पेला था. मैंने उसको नया खेल खेलने का बताकर उसको मोम की तरह बिस्तर पर लिटाया (उसने कच्छी नहीं पहनी थी-गाँव में कोई पहनता ही नहीं है) और चाचा की तरह उसके ऊपर आकर अपने ढीले ढाले कच्छे को सर्काकर अपनी नूनी (जो कड़ी हो गयी थी) पर थूक लगाया और कुछ थूक छोटी की चूत पर लगाने के बाद अपनी नूनी को उसमे घुसेदने की कोसिस करने लगा, जब जोर लगाया तो छोटी चिल्ला पड़ी- ईईईई भैया मुझे नहीं खेलना ये खेल, दरद होता है. मुझे याद आया मोम ने अपनी चूत के छेद को अपने हाथों से चौड़ा कर खोला था सो मैंने उसके ऊपर से हट कर उसकी टांगों को मोड़कर इधर-उधर फैलाया और उसके दोनों हाथों को पकड़कर उसकी चूत के पास लाकर उसकी उँगलियों को उसकी पिद्दी सी चूत के अगल-बगल की स्किन पर रखा और उसको खींचने के लिए बोला. अन्दर गुलाबी रंग की स्किन दिखाई दी, उसको इसी तरह पकडे रहने को बोलकर मैंने उसकी टांगों के बीच में आकर अपनी नोनी पर फिर थूक लगाया और उसकी चूत के मुह पर रखते ही धक्का मारा??.वो चिल्लाई माआआआआआआआआ जी और खिसक कर खड़ी हो गयी, रोते हुए उसने अपनी घाघरी ऊपर उठाई, उसकी जांघ पर खून टपक रहा था, हम दोनों घबरा गए, मैंने झट से कुछ चीनी मुह में डाली और चबाकर अपनी हथेली पर निकाल कर उसकी चूत पर लगायी, खून निकलना बंद हो गया. मैं बहुत घबरा गया था और छोटी को प्यार से समझाने लगा क़ि मोम को मत बताना और किसी को भी नहीं बताना, ये गलत खेल होता है और हम दोनों को बहुत मार पड़ेगी. ये भी बताया की ये खेल आदमी और औरत लोग शादी के बाद बच्चा बनाने के लिए खेलते है. रोते-रोते उसने कसम खायी क़ि वो किसी को नहीं बताएगी और मेरे से भी कसम दिलाई क़ि उसके साथ ये खेल कभी नहीं खेलूँगा. दोपहर को मोम, चाची और उनकी लड़की घास के गठ्हर लेकर आये, पानी पीने के बाद मोम ने उनको मट्ठा (लस्सी) पिलाकर खाना खाकर जाने को बोला लेकिन वो नहीं मानी ये बोलकर क़ि वो सुबह ही दाल चावल पकाकर आई थी. मोम ने चाचा के आने तक उनको रोकना चाहा, चाची बोली वो अभी गाद (नदी) में नहायेंगे, दयाल (रस्ते में पड़ने वाले घर का मालिक) के साथ हुक्का पीकर आयेंगे, तुम्हारे घर खाना खायेंगे, तब तक बहुत देर हो जायेगी और दोनों माँ बेटी ने अपना-अपना घास का गठ्हर उठाया और अपने रास्ते चल दी. मोम ने हम दोनों को खाना खिलाया और आराम से सोने को बोला. मेरा दिमाग में फिर हलचल मचने लगी, क्या मोम आज भी चुद वाएगी ?, नहीं-नहीं अगर चुदवाना होता तो चाची और उनकी लड़की को रोकने की कोसिस क्यों करती?.. फिर सोचने लगा क़ि हमको सोने के लिए क्यों बोल रही है. कभी दिमाग कहता नहीं चुद वाएगी कभी कहता बिना चुदे नहीं रहेगी और थोड़ी देर लेटने के बाद करवट लेकर मैं अपना वही पोज बनाकर हलकी हलकी सांस लेने लगा ताकि मोम को पता चल जाये क़ि मैं नींद में हूँ. काफी देर के बाद जब चाचा नहीं आये तो मैंने बहाने से दूसरी तरफ करवट ले ली (मोम को धोखा देने के लिए). इस बीच मोम २-3 बार बाहर गयी और लौटी सायद चाचा को देखने गयी होगी. जैसे ही बाहर बैलों की घंटी की आवाज मेरे कानो में पड़ी मैंने फिर खिड़की की तरफ लगे बिस्तर की तरफ करवट ली और हिलते हुए अपने पोज की अद्जुस्त्मेंट की. मोम भागते हुए अन्दर से घास की एक छोटी सी गद्दी उठाकर बाहर गयी, अन्दर उनकी बातें करने की आवाज आ रही थी पर समझ में नहीं आ रहा था. मोम अन्दर आई और दो थालियों में खाना परोसकर चाचा का इंतजार करने लगी. चाचा अन्दर आये और अपने चिरपरिचित अंदाज़ में बैठे, बैठते ही उनका मुरझाया हुआ लंड कच्छे सेबाहर लटक गया और जमींन पर मुड गया.
मोम- तुम इसको संभाल कर नहीं रख सकते.
चाचा- कैसे सम्भालूं, पजामा पहनने की आदत नहीं है और कच्छे में ये अन्दर रह नहीं पाता. उनके बोलने के साथ ही धीरे-धीरे उनका लंड नाग के फन की तरह उठाने लगा. भाभी डरो मत मुझे परसों की कसम याद है.
मोम-वो बात नहीं है, पर तुम्हे संभल कर बैठना चाहिए, तुम्हारे घर में जवान लड़की है. चाचा-अपनी तरफ से कोसिस तो करता हूँ पर बाहर निकल ही जाता है.
मोम-मुझे पता है तुम जान बूझ कर उसको बाहर निकाल कर बैठते हो ताकि कोई औरत उसको देखे और तुम उसका फ़ायदा उठाओ. अब तो चाचा का लंड पूरी तरह तन गया था और झटके मारने लगा. मोम ने खाना सुरु किया और उनको भी खाना सुरु करने को कहा.
चाचा- भाभी एक बार दर्शन तो करवा दो बैठे-बैठे.
मोम- तुम्हे तो सरम लिहाज नहीं है, मुझे तो है, फटाफट खाना खाओ .
चाचा- देखने और दिखाने की कसम तो नहीं खायी है भाभी.
मोम- देखे बिना मानोगे तो नहीं और मोम ने बैठे-बैठे ही अपना पेतिकोत ऊपर सरकाया और जमीन से गांड उठाकर हिप्स से ऊपर खींच कर चाचा की तरह उनके सामने बैठ कर थाली अपने घुटनों पर रख कर खाना खाने लगी. चाचा मोम की टांगों के बीच में नज़रे गढा कर मुस्कराते हुए खाना खा रहा था और उनका लंड आधा मुड़ने के बाद तन्न्न्नन्न्न्न से ऊपर झटके मार रहा था. खाना खाने के बाद मोम ने उठकर बर्तन इक्कठे किये और धोने के लिए बाहर चली गयी, चाचा ने अपने लंड की तरफ देखा और एक बार उसकी फोरस्किन खींच कर उसके सुपदे को देखा और वापस स्किन से धक् कर बैठ गए. पत्ते में तम्बाकू लपेटकर पीने लगे . मोम ने अन्दर आकर बर्तन संभाले और चूल्हे के पास बैठकर चाचा से बोली ये (चाचा का लंड ) अभी शांत नहीं हुवा. चाचा-इतनी जल्दी शांत कहाँ होगा, हो जायेगा धीरे धीरे. लम्बी सांस लेते हुए बोले-चलता हूँ भाभी घर जाकर आराम करूंगा.
मोम-आज बहुत जल्दी लग रही है घर जाकर आराम करने की, अभी खाना खाया है थोड़ी देर यही सुस्ता लो. चाचा उठकर मेरे पास आकर बैठने ही वाले थे क़ि मोम भागते हुए आई और चाचा का हाथ खींचते हुए उसी बेड के ऊपर लेजाकर बैठ गयी जिसपर २ दिन पहले चिल्ला-चिल्ला कर चाचा के लंड का मज़ा लिया था.
मोम- आज बड़े सरीफ बन रहे हो?..

यह कहानी भी पड़े बेटे के साथ मिल के उसकी माँ को चोदा

Pages: 1 2

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


सांस समीर हिंदी सेक्स कहानीमेरे कमपुटर सेंटर पर मेरी बीवी की चुदाई देखीMera parivar chudai ka khajana hindi storiमम्मी को अंकल चोदने वाले थेदुकान मालकिन ने चोदना सिखाया.comचुतकी सीलviagra khakar aunty ki chtdai kahaniअन्तर्वासनाxxxhot tether SirBethao sexy kya hAntrvasna story kamla ki moti gandmummy aur mummy ki beti ki jhhat banai hindi sex kahaniaमेरी जब आँख खुली तो देखा कि मैं अस्पताल में था hindi sex storगलती से धोखे से बदला सेक्स हिंदी कहानीप्रताड़ित चुदाई की कहानीसेकस कयाहैchachera bhai Milne Aaya hindi part 2bulu filam ka garl ka bur ka photo chahiyDildo se Meri chut ki sel thodiचुदाई कि कहानीचुतद करनाबहु बुर में ऊँगली कर रही थी और झडती जा रही थीSex stories. Behan ka gifthard se hard chute mai land kese ghusae hindi sexy storyasadharan rishton me chudaiविधवा भाभी की चुड़ाई की स्टोरीbhai bhan hindi sax camplet khanyaकच्ची जवानी सैक्स स्टोरीSamuhik chudai m huva bura haaljanvaro se mangi chudai ki bhikh sex storybua ki chuxaimasag palar vale kee antrvasnaपेटिकोट ऊठाकर चुत की चुदाईantarvasana ushakiट्रेन के सफर मे चुदाईoffice me sab chudti hainsakse cdai video dekayoचुदाई कहानी कामवालीसील पैक चूत की चुदाई स्टोरीमैंने अपने दोस्त को चोदा Nehaदो बांस और भाई hindi sexmai hu anjali chudai storyदीदी के सामने बैठकर मुठ मारसफर मे चुदाई कहनीYoga Sexxxxxxx khaniyasex stories hindime nokari chudai ki sas bahu betiyo or kamvaliमैं कुछ करता हूँ अन्तर्वासनाअन्तर्वासना सेक्सी सफर कहनिया ट्रैन मईफुला चुतप्रताड़ित चुदाई की कहानीमेरे लण्ड के स्पर्श का अहसासbahu ki chut sasur ka londaPariwarik hard gangbang chudai ki kahaniलंड पर उछलने लगीआह अममी औह हीनदी सेकस कहानीयाअन्तर्वासना ताई कीgao me huee pariwarik gand aur chut chudai khaniya.comपापा से सुहागरात मनाईघदि कि सुदाईसगीता मनोज की चोदाईKarsanji ki kahaniyan hindi meचाचा ने लंड डालकर दीया मजादो चूत की चुदाई चिल्लाईगुलाबी गांड़मालकिन की चुदाईsexi figar big ass and looz boobs sex beeg hdदुस्त का बैहेन Sxc Videomere stan ki phuli hui tight golai hindi sex storyxx.sadhubaba.ne.chuda.stroysex story mere प्यारे डैडी part 3bahan bhai ki majedar xxx kahanimeri mangalsutra apne land me lapet kar choda adio sex storiचोदाई विडीयो अछसेxbgrupsex कॉमचाची ने किया चुदाई रात भरmomedn sex khane chachechodayboorAntervashna Bus me ladaki ko god me bithake chodaआंटी पैंटी पेट मालउई माँ मर गई चुदाई videoWww xxx Bhabhi ne chudwayamms vidieo.comनीदं मे दिदि कि गाड़ मारीchachera bhai chacheri bahen ka seal toda sex storyMamma ko choda masaj karke khani