हमारी मकान मालकिन की चुदाई कहानी


makan malkin ki chudai kahani मेरी नौकरी आगरा के करीब् एक छोटे से कस्बे मे लगी। मै अपनी पत्नी के साथ् वहाँ रहने चला गया। हमें वहाँ एक छोटा सा मकान भी मिल गया. दुमंजिला मकना था. नीचे माकन मालिक रहता था. ऊपर हमें रहने के लिए दो छोटे कमरे और रसोई . माकन मालिक की किराने की दुकान थी.उसकी पत्नि भी थी लेकिन उनका लड़का बाहर दूसरे शहर में पढ़ रहा अता. माकन मालिक और उसकी पत्नि की उमर करीब चालीस साल थी.लेकिन दिखने में गजब की सुन्दर थी. मैं जैसे ही शाम को घर लौटता मैं और मेरी पत्नि सोनिया एक बार बिस्तर में घुस जाते. मेरी दिन भर की थकान उतर जाती और सोनिया की दिन भर की बोरियत ख़तम हो जाती.

एक दिन इसी तरह मैं और सोनिया बिस्तर में थे. उस दिन गलती से हम दरवाजे की कुण्डी लगाना भूल गए. मैं सोनिया के ऊपर लेता था और उसके अन्दर मेरा लिंग घुसा हुआ था. हम दोनों पूरी मस्ती में थे. तभी मकान मालकिन मेरे नाम आये कोई पत्र को लेकर ऊपर आ गई. उसने दरवाजे को धकेला तो हमें इस हालत में देखकर चौंक गई. हमें उसके आने का पता नहीं चला. उसने धीरे से वापस दरवाजा बंद किया और बाहर खड़ी होकर खिड़की से झांककर हमें देर तक देखती रही और मजा लेती रही.
इसके बाद तो वो रोजाना उस समय आ जाती और बाहर खिड़की से हमें मजे ले लेकर देखती रहती. हम दोनों का इस बात का बिलकुल ही अनुमान नहीं था. एक दिन जब मैं अपने ऑफिस में मेरे एक दोस्त को अपने घर का पता दिया तो चौनते हुए बोला ” क्या!! तुम उस मकान में रहते हो!” मैंने उसके चौंकने का कारण पूछा तो वो बोला ” अरे तेरे मकान मालिक की बिवे बहुत खतरनाक है. वो हर किरायेदार पर डोरे डालती है. और यही कारण है कि वो मकान खाली रहता है.” एक बार तो मैं डर गया. लेकिन फिर ये सोचकर कि मैं शादीशुदा हूँ वो मेरे साथ इस तरह से कुछ नहीं करेगी. निश्चिंत हो गया.
मेरा और सोनिया का ये सिलसिला जारी था और उधर संजना ( मकान मालकिन ) का हमें देखने का सिलसिला जारी था.एक दिन मैं दोपहर में जल्दी घर आ गया. सोनिया अपनी एक और पहचान वाली पड़ोसन के साथ बाजार गई हुई थी. ये खबर संजना ने मुझे दी. मैं कमरे में आकर बैठ गया. तभी संजना ऊपर आई. मैं थोडा चौंका. क्यूंकि संजना का आँचल नीचे ही था और उसके ब्लाउज का एक बटन भी खुला हुआ था. उसने मेरी तरफ एक शरारत भरी नजर डाली और बोली ” तुम दोनों बहुत खुशकिस्मत हो. रोज रोज बिस्तर गरम हो जता है.” मैं उसकी ये बात सुनकर हैरान रह गया. संजना ने मुझे सारी बात बता दी. मैं पसीना पसीना हो गया. संजना ने फिर कहा ” मुझे सब लोग गलत समझते हैं. लेकिन मैं की अकरुण! मेरे पति तो अपनी दुकान के पीछे रहनेवाली एक औरत में फंसे हुए हैं. वो गन्दी औरत उन्हें छोडती ही नहीं. पिछले दस साल से फंसाया हुआ है. मेरी प्यास भी तो है जिस्म की. इसे कैसे बुझाऊं?”” संजना ने इसके बाद काफी बातें कही. मुझे उस पर बहुत दया आ गई. संजना का चेहरा बता रहा था कि वो झूठ नहीं कह रही है. संजना अपनी जगह से उठी और मेरे करीब आते हुए बोली ” मुझे तुम और सोनिया बहुत अच्छे लगते हो. तुम दोनों खुश रहो. तुम मुझे बस यह सब देखने का मौका रोज देते रहना .” संजना नीचे चली गई.
मैं सोच में डूब गया. रात को मैंने सोनिया को सारी बात बताई. सोनिया ने भी संजना के लिए हमदर्दी जताई. अगले दिन जब मैं और सोनिया शाम को बिस्तर में थे तो संजना आ गई., वो दरवाजे के बाहर खड़ी होकर हमें देखने लगी. हमें भी उसका देखना अच्छा लगा. और हम और जोश से सेक्स करने लगे. धीरे धीरे संजना का कमरे के अन्दर आकर पलंग के पास खड़े होकर और कभी सोफे पर बैठकर देखना शुरू हो गया.
कभी कभी वो सोनिया के जिस्म को भी छु लेती. सोनिया भी उसे मना नहीं करती. हम दोनों खुश थे कि संजना की कुछ कुछ प्यास तो कम हो रही है.
एक दिन संजना सोनिया के पास आई. उसने कोई मैगजीन सोनिया को दिखलाई. उसमे दो औरतें आपस में एक दूसरे को चूम रही थी. सोनिया के बदन ने सरसराहट दौड़ गई. दोनों के लिए इस तरह की फोटो देखने का ये पहला मौका था. सोनिया ने मैगजीन में उस फोटो के साथ वाले आर्टिकल को पढ़ा. उसने संजना को सारी बात पढ़कर सुनाई और बतलाया अकी विदेशों में इस तरह की बातें आम है. जाह्न मर्द व्यस्त रहते हैं तो औरतें अपने जिस्म की प्यास इस तरीके से बुझाती हैं.
संजना ने सोनिया को कहा ” क्या मैं भी अपने जिस्म की प्यास को इस तरीके से तुम्हारे साथ बुझा सकती हूँ?” सोनिया हैरान रह गई. संजना ने बार बार उसे विनती की. सोनिया से संजना के आंसू देखे नहीं गए. उसने संजना को हाँ कह दिया. संजना की ख़ुशी का ठिकाना नहीं था.
लेकिन सोनिया ये बात मुझे बता दी. रात भर हम दोनों आपस में बहस करते रहे कि ये गलत होगा या सही. सवेरा होते होते सोनिया ने मुझे मना लिया था.
मैं ऑफिस चला गया. दोपहर में सोनिया ने संजना को ऊपर बुला लिया. दोनों ने उस मैगजीन को खोला और अपने अपने ऊपर के कपडे उतार दिए. स्नाजना ने अजब अपनी चोली उतारी रो सोनिया उसे देखती ही रह गई,. संजना के स्तन बहुत भरे हुए और बड़े थे. ऐसा लगा अजैसे बरसों से किसी ने उन्हें ना छुआ हो. संजना ने सोनिया की चोली भी खोल डी. अब दोनों के जिस्म पर सिर्फ पेटीकोट ही रह गया था. दोनों धीरे धीरे एक दूसरे के बहुत करीब आ गई. दोनों ने उस मैगजीन की तरह अपने अपने स्तन एक दूजे से छुआ दिए. दोनों के जिस्म में एक करंट दौड़ गया. संजना काँप कर सोनिया से लिपट गई. दोनों की साँसें टकरा गई. सोनिया ने कांपती हुई संजना के गाल से अपने गाल छु दिए. संजना और सिहर गई. अब सोनिया ने संजना के गालों को हलके से चूम लिया. संजना तो जैसे नशे में चली गई और सोनिया की बाहों में ही झूल गई. सोनिया ने अब अपनी छाती से संजना की छाती को थोडा जोर से दबा दिया. दोनों को ही अब बहुत मजा आ रहा था. संजना तो बादलों में उस रही थी. उसने कांपती आवाज में कहा ” आज करीब दस साल के बाद मेरे जिस्म को किसी ने चूमा है, छुआ है. मेरा जिस्म बहुत बहुत प्यासा है, भूखा है. तुम इसकी प्यास बुझा दो आज.” सोनिया ने अब संजना को गालों के अलावा, गरदन के चारों तरफ और सीने के आस पास चूमना शुरू कर दिया. सोनिया को भी अब नशा सा आने लगा. आखिर दो कोमल बदन एक दूजे में घुल जो रहे थे. अचानक दोनों जोर से एक दूजे से लिपट गई और पलनग पर लेट गई. काफी देर तक इसी तरह दोनों आपस में लिपटी लेटी रही और एक दूजे को चूमती रही. गालों पर, गरदन पर औए एक दूजे के स्तनों को भी लगातार चूमने लगी. सोनिया ने संजना के स्तनों के निप्पल को बहुत जोर से चूसकर चूमा. संजना के मुंह से एक मीठी चीख निकल गई. वे दोनों एक दूजे के साथ पलंग में दो घंटे तक चिपकी रही. लेकिन जब भी एक दूजे के होंठ सामने आ जाते सोनिया झिझक कर संजना के गालों को चूम लेटी . संजना चाह रही थी कि सोनिया उसके होठों को चूमे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.
शाम को जब मैं घर लौटा तो सोनिया ने मुझे सारी बात विस्तार से बताई. मैं सारी बात सुनकर बहुत उतेजित हो गया. मेरा लिंग एकदम तनकर खड़ा हो गया. रात को मैंने और सोनिया ने खूब सेक्स किया. सोनिया मुझे आज हमेशा से कहीं ज्यादा उत्तेजित और गरम लगी. मैं बहुत खुश हुआ. वो बीच बीच में संजना के साथ के पलों को बताती और हम दोनों और ज्यादा उत्तेजित हो जाते. हमारी सेक्स लाइफ ज्यादा गरम और रंगीन लगने लगी.

यह कहानी भी पड़े एक से भली दो-दो से भली तीन

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


Mousa जी ने मुझे choudaमैंने मज़बूरी में गैर मर्द का लंड चूसआआआआहह।//buyprednisone.ru/mayke-aayi-ladki-ki-jalti-jwani/samuhik afarin sex hindi storypoti antarvasnaBhavichutनशीली चूतसेक्स माँ से ऑनलाइन चीटिंग चुदाई सेक्स कहनीबहन.चौद.डौट.कौमbhabhi ne tange kholkarदीदी के हाथ में मेरा वीर्यआंटी पैंटी पेट मालchuse meri land bhenchodमहिला lisban xnxxstoryबाकी लड़कियों की लैंड चूसाई और मुंह में पानी निकालनामेरी चुत नही झेल पायेगीबाजी की ऊँगली मेरे लंड पर टच होneelu biwi ki chudai indian sex baxaar xxx kahani मजेदार तूफानी चुदाई कहानी हिन्दीwww xxx video mavse ke sathe cudai video kamralekar hindichudai sat dinsexy story risabh riyaभाभी के गोरे बोबेसफर में चोदाअदिती बहु चुदाई fak mi yes ohh aaa सेक्स स्टोरीसिस्टर सेक्स स्टोरी इन ट्रेनbhabhikichudaibolkeदोस्त की माँ को चोदादूकान वाली की चुदाई की काहानीयाXxx.sex.ma.bheta.bavu.kahaniya.comदीदी की बुरPorn story Must ghodiyapapa ke sath pehla sex rajai me. hindi sex storiesमेरी सेक्सी मां की सेक्स यात्रा हिंदी सेक्स कहानीनंगीजवानलडकिया अंग प्रदर्शन कर रही होमै उसे चूमने लगा वो मना करने लगी सेक्स स्टोरीबुआ ने मुँह में ले लियास्तन मर्दन की कहानीBaccha ka Nimbu jaisa Nipple storybaju vali ki malkin x kahanisangita tai ki chudai incest storiesmabeta chodaistoresbathroom me chodte waqat chut se khoon nikata antrvasanaphim sex chi em nha kieu 2016Somyadidi ko sex kya Hindi storyWasna se hua sex antarvasna storiesmeena boobsचूदाईसोतेलीantarvasna new hindi sex storisसफर सेक्स स्टोरीbesharmi wali majedar sexy khaniyaतेरी बीवी की ब्रा उतार रहा हूंanterwasnaki sarwadhik sexy kahaniसफर मे चुदाई कहनीbono bhabhi ne nanad ko chudaya sex storyAntravasana malken ke aor bibi cudaiDidi se mom ki cudai tak ka,sfar sex storyमेरे लंड में आइसक्रीम लगाchuse meri land bhenchodbidhwa..nokrani.didiGaw ke dehati kam umra wale schooli ladki ke garma garam chodai ke kahaniDushman चुदाईचुचीbahnkr.jag.cudai.kahnyaसमधी से चुदवायाअन्तर्वासना हिंदी सेक्सी स्टोरीमधुर कानी सेक्सी स्टोरी मधुर कहानीindian saxy bhabhi full hd pron video bhabhi ka bhi chutna chaiye or man ka bhi