प्यासी चुत चुदाई पड़ोसन भाभी की


Click to this video!

दोस्तो, मेरा नाम सैम है (बदला हुआ नाम), मैं उदयपुर राजस्थान का रहने वाला हूँ. आज मैं अपनी एक देसी स्टोरी आपको बताना चाहता हूँ. यह मेरी अन्तर्वासना साईट पर पहली चुदाई की कहानी है. मेरी इस कहानी में कोई गलती दिखे तो माफ़ कर दीजिएगा क्योंकि यह मेरा कहानी लिखने का पहला प्रयास है.

पहले मैं आप को अपने बारे में बता दूँ मेरी हाइट 5 फुट 8 इंच है और मेरी एथेलीट बॉडी है और दिखने में बहुत स्मार्ट हूँ.
यह बात तब की है, जब मैं 21 साल का था. मैं मुंबई के एक माने हुए कॉलेज में अपनी ग्रेजुएशन कर रहा था. मेरे कॉलेज में कई लड़कियां मुझ पर मरती है और मेरी कई गर्लफ्रेंड भी थीं और उनमें से कई गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स भी कर चुका था. मैं अपने कॉलेज में पढ़ाई और स्पोर्ट्स में बहुत पॉपुलर था.

गर्मियों की छुट्टियों में मैं मुम्बई के अपने कॉलेज से घर आया था. घर आने के एक दिन बाद मैंने अपने बिल्कुल लगे हुए मकान में एक नई भाभी को देखा, जो कुछ दिन पहले ही यहाँ रहने आई थीं. उनके घर में उनके पति रमेश भैया, भाभी के सास-ससुर और एक 3 साल का बेटा था.

घर आने के 2 दिन बाद मम्मी ने मुझे उनसे और उनकी सासू माँ से मिलवाया. मैंने जब पास से भाभी को देखा तो मैं उन्हें देखता ही रह गया. भाभी दिखने में एकदम गोरी-चिट्ठी और बहुत खूबसूरत थीं. उस वक़्त उनकी उम्र 24 साल थी, उनका नाम सुमन था. उनका 34-26-34 का फिगर क्या कहूँ बहुत ही मस्त था. मेरी उनके सभी घर वालों भैया भाभी, सास ससुर सबसे अच्छी बनने लगी.

यह कहानी भी पड़े दो रंडियों को साथ में चोदा

सुमन भाभी के पति रमेश भैया एक बैंक में ब्रांच मैनेजर थे, उनके ससुर एक आयुर्वेद के डॉक्टर थे और उनकी सासू माँ एक प्राइवेट स्कूल में टीचर थीं. खुद सुमन भाभी केवल हाउसवाइफ थीं. सुमन भाभी का बेटा आकाश था, मेरा लट्टू हो गया था.

मैं अब सुमन भाभी को देख कर उनका दीवाना हो गया और उनको चोदने के लिए बेक़रार हो गया. किस तरह उनको चोदूँ, यह सोच कर प्लान बनाने लगा. फिर मैं आकाश को खेलने के बहाने उनके घर जाने लगा और भाभी से धीरे-धीरे बातें करने लगा. साथ ही मैं भाभी के छोटे-मोटे काम भी करने लगा, जिससे अब सुमन भाभी मुझसे खुल गईं और हम हँसी-मजाक भी करने लगे. इसी बहाने में सुमन भाभी को निहारने लगा और जाने-अनजाने बनते हुए उनको इधर-उधर हल्का-फुल्का छूने का मजा भी लेने लगा.

शायद भाभी ने मेरी नीयत जान ली थी इसलिए एक दिन भाभी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?
मैंने झूठ बोल दिया कि नहीं.. मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, मगर अब बनाना चाहता हूँ.
यह सुन कर सुमन भाभी ने कहा- कोई लड़की देख रखी है क्या?
मैंने कहा- लड़की नहीं, एक भाभी देख रखी है.
मैंने भाभी पर तीर मारा.

सुमन भाभी ने कहा- वाह.. मेरे सैम तुम तो डायरेक्ट लड़की पर न अटक के भाभी पर अटके.. जरा बताओ तो कौन है वह भाभी?
मैंने तपाक से उनका नाम ले लिया, यह सुन कर सुमन भाभी को झटका लगा. फिर सुमन भाभी ने कहा- पागल हो क्या सैम.. मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड कैसे बन सकती हूँ?
मैंने कहा- इसमें क्या है?
तो उन्होंने कहा- नहीं यह गलत है.

यह कहानी भी पड़े टॉयलेट में मिला लड़की का नंबर और फिर हुई चुदाई

मैंने भाभी से कहा- सुमन भाभी आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो, रोज़ रात को आप मेरे सपने में आती हो, मुझे आपसे बात करना अच्छा लगता है और आपके साथ रहना अच्छा लगता है.
यह सुन सुमन भाभी ने कहा- ठीक है हम अच्छे दोस्त बन जाते हैं.. बस खुश..!
मैंने तपाक से कहा- फिर तो आप मेरी गर्लफ्रेंड बन गईं.
उन्होंने कहा- वो कैसे?
मैंने कहा- मैं आपका दोस्त हूँ न.. तो मैं लड़का, आपका ब्वॉयफ्रेंड और आप लड़की तो मेरी गर्लफ्रेंड हुई ना!
यह सुन सुमन भाभी हँस पड़ीं.

फिर मैं रोज़ सुमन भाभी से हँसी-मजाक करने लगा. एक दिन सुमन भाभी थोड़ी अपसेट सी दिखीं, मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. जब मैंने भाभी को अपनी दोस्ती की कसम दी, तो उन्होंने बताया कि प्लीज किसी को बताना नहीं यार सैम.. मेरे पति रमेश को मेरे लिए टाइम ही नहीं है.

मैं समझ गया कि सुमन भाभी को सेक्स की जरूरत है और रमेश भैया काम की थकान से उनको सेक्स का मजा नहीं दे पाते.

अपना दुखड़ा कहते हुए भाभी रोने लगीं. मैंने अपना कंधा आगे कर दिया, जिस पर भाभी ने सर रख दिया. मैंने भी मौके का फायदा उठाया और उनकी कमर पर हाथ फेरते हुए उनको चुप कराने लगा. मैंने सुमन भाभी से कहा- आप चुप हो प्लीज़.. मैं हूँ ना, आप फ़िक्र क्यों करती हो. यह आपका ब्वॉयफ्रेंड हाजिर है आप हुकुम करो.. मेरे पास आपके लिए वक़्त ही वक़्त है.

इस पर वह चुप हो गईं, मैंने उनको गले से लगा लिया और अपने हाथ उनकी कमर पर और बालों में चलाने लगा.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4 5

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone