सुहागरात पर जम कर चूदी पर चूत का सत्यानाश करवा लिया


Click to Download this video!

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम कशिश हे और मैं उत्तर प्रदेश से हु। मैं इस समय २५ साल की हूँ। ये चुदाई की कहानी आज हिंदी में आप के लिए ले के आई हो वो चार साल पहले की बात हे। तब मेरी शादी हुई थी। मेरा बदन तब एक फुल की पंखडी के जैसा कच्चा और कशिश था। मेरा फिगर तब ३२ २८ ३४ था। मेरे पति का नाम सुनील हैं जिसका बदन शादी के समय से ही भारी था।
मैं शादी के दिन के बाद काफी थक गई थी तो इसलिए मेरी आँख जल्दी लग गई और मैं नींद की आगोश में चली गई। और नींद में ही मुझे अचानक कुछ महसूस हुआ। मैं जब चौंक कर उठी तो मेरे पति मेरे पास बैठे थे और उसका हाथ मेरी पीठ को सहला रहा था। उनकी आँखों में देखने की मेरी हिम्मत नहीं थी। मुझे बहुत ही शर्म आ रही थी। और शायद वो भी मेरी हालत को समझ रहे थे।

अब उन्होंने मेरी थुड़ी को अपनी उँगलियों से पकड़ा और ऊपर उठाया और वो मेरी आँखों म देखने लगे। मैंने भी हिम्मत कर के उनकी आँखों म देखा तो उन्होंने एक पल वेस्ट किये बिना अपने होंठो को मेरे होंठो पर लगा दिया। वो मेरे गुलाबी और रस से भरे हुए होंठो को चूसने लगे।

उनकी किस में कुछ ज्यादा ही दम था। वो मुझे ऐसे चूस रह थे जैसे आज वो सब रस को चूस चूस के खाली कर देंगे। तभी वो किस करते करते मेरे ऊपर आने लगे तो मैं भी अपनी बाहों को खोल के उनके गले में दाल की उन्हें खिंच बैठी। मैं मस्तिया के उनका साथ देने लगी थी।

कुछ ही पलों में वो मेरे ऊपर थे और मैं उनके निचे चित्त लेटी हुई थी। अब मेरे पति ने एक हाथ से मेरे पल्लू को साइड में कर दिया और अगले ही पल मेरी एक चुन्ची को दबा दिया। मैं तो जैसे सिसक उठी। मुझे एकदम से अजीब सा मजा आने लगा और देखते ही देखते मेरी चुन्ची ब्लाउस के ऊपर से ही पति के हाथ में समा गई और वो जोर जोर से मुझे किस करते हुए बूब्स को मसलने लगे।

यह कहानी भी पड़े ट्रेन में बहन की चुदाई

तभी मैंने किस तोडा और शर्माते हुए बोली, धीरे कीजिए न प्लीज़ मुझे दर्द हो रहा हे!

वो भी धीमी आवाज से बोले, मेरी जान दर्द का अपना अलग ही मजा होता हे सेक्स के अंदर।

ये कह के वो हलके से मुस्कुराए और अगले ही पल उन्होंने मेरा ब्लाउज और ब्रा को मेरी छाती से अलग कर दिया और मेरी छोटी छोटी चुन्चियों को देख के उनके चहरे पर किल्ला फतह करने वाली स्माइल आ गई।

मैं तो जैसे शर्म से लाल हो गई और मैंने साइड से चद्दर उठा कर अपने ऊपर ओढ़नी चाहि पर इसका कोई फायदा नहीं हुआ। मेरे पति ने एक ही झटके में चद्दर दूर फेंक दी और मरी चुन्ची को अपनी उंगलियों में फंसा कर नोंच लिया।

उनके ऐसा करते ही मुझे एक झटका लगा और मैं उनकी छाती से लिपट गई। पति ने मुझे अपने सिने से अलग किया और वो नीची खिसक के मेरी एक चुन्ची को मुह में लेकर चूसने लगे और दूसरी को अपनी उँगलियों से नोंचने लगे।

मुझे एक तरफ मजा भी आ रहा था और दूसरी तरफ दर्द भी हो रहा था। पर पति को बचे की तरह मेरी चुंचियां चूसते हुए देख के मेरे अन्दर की गर्मी बढ़ रही थी और मेरे निपल्स अपनेआप ही हार्ड होते जा रहे थे।

सुनील के मुह से अपनी निपल्स को महसूस कर के मैं सिसक रही थी। और इसी गर्मागर्मी में मैंने सुनील की पेंट पार हाथ डाल दिया। एक ही झटके में मैंने उनकी पेंट खोल दी। सुनील ने भी मेरी चुन्ची चूसते चूसते पेंट निकाल फेंकी और अगले ही पल जब मैंने उनके अंडरवेर में हाथ डाला तो मैं दंग रह गई और अपना हाथ मैंने बहार खिंच लिया।

यह कहानी भी पड़े ट्रेन में भाई-बहन की चुदाई

सुनील ने जैसे ही मेरी इस हरकत को देखा तो वो तुरंत अपने घुटनों की बल आ गए और उन्होंने अपनी चड्डी को नीचे खिसका दिया। ऐसा करते ही उनका लगभग ९ इंच का लम्बा लंड मेरी आँखों के सामने आ गया। उनका लंड लम्बा तो था ही पर वो थोडा टेढ़ा भी था जिसके कारण वो बहुत ही डरावना सा लग रहा था।

तभी सुनील ने मेरा एक हाथ पकड़ा और उसे अपने लंड पर रख दिया। और उसे आगे पीछे करने लगे। थोड़ी ही देर में मैं खुद ही पूरी तेजी के साथ उनके लंड की चमड़ी को पकड़ के आगे पीछे करने लगी थी।

अब सुनील ने मुझे लंड मुह में लेने का इशारा किया। पर मैंने ब्लोव्जोब के लिए मना कर दिया। और फिर एक मिनिट मी जब वही इशारा फिर से हुआ तो मैं मना नहीं कर सकी और मैंने उनके बड़े लंड को अपने मुहं में भर लिया।

उनके लंड से एक अलग ही सुगंध सी आ रही थी। और ये सुगंध मुझे उतावला सा कर रही थी। मैं अच्छे से उनके लंड को चूस रही थी। उनका लंड वैसे तो आधा ही मेरे मुहं में आ रहा था पर फिर भी वो बिच बिच में मेरा सर पकड के मेरे मुहं की चुदाई करने लगते और उनका आधे से ज्यादा लंड मेरे मुहं मी चला जाता था।

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


xxxhot tether SirXxx.मामि भाजीwww.ghar ka chirag incest chudai kahaniभौजाई किवाड़ बंद नंगा चूतbeta dard ho reha hi hindi sex khaniyaxxx ghachak ghachak chudai jabarjastimamme ne apne kmpne bos se chudwayaहिंदी रंगीन परिवार चुदाई कहानीBhavichutWww xxx Bhabhi ne chudwayamms vidieo.comलंड पर उछलने लगीनौकर ने दोनों लड़कियों को चोदाmera kamuk badan aur atrupt yuwan sex storyहोंटो पर लन्डचुत ताई कीसलोनी की प्यारी चुदाई की कहानीचूचे कि चूदाईभाभीने घरी बोलवून ठोकून घेतले sex vidro चुस रहै है हिरोइन Sex videoभाभि देवर सेकस विडीवोNauvi kaksha ki antarvasnaJabanladki ko jabarjasti lund chusa ke chodapapa ki pari chud gayi storyअकेले घर में पड़ोस की लड़की को बहाने Sex storyकंट्रोल नहीं कर पाई छोड़ने के लिएहस्बैंड स्वैपिंग की चुदाई की कहानियाँ हिंदीcudai ki khaniya in hindi by railroleplay करके biwi ki chudaiछोटी बहन रेखा चोदAntrvasna ma kamla ki chut or gandमकान मालकिन की सहेली की चुदाईचाची के भारी नितंब चुदाई कहानीbono bhabhi ne nanad ko chudaya sex storyसपना का बदला 2 sxsi khaniyasexhindikahaniburमाँ का दीवाना हिंदी सेक्स स्टोरीAntrvasna facebook Parptasexsstori.comBu lon con dauChut Masoom ki lalach sex storyसदीप क गाड चोदाई कहानीरात में छत पर लड़के का अंडरवियर खोलाXxnxxx BHEJUR 2014qhim đít cháu gái16चुत चुदाई नँगीकहानीAntrwasna maa bete ka randipan indan sexchalte truck mein chuchi chuswa kr vhudaiestoure cudaikecondom chalate Hai ladkiyon ki sexy video WhatsAppसलवार चुदाई कथाxxx history badi maa aur badi dediPayal birthday sexy story dusron ki bibiya chodne ki khaniyaएक बार पूरा घुसा दे लौडा कमिने कहानीचुत लडमैँ औरमेरा भाईचुदाई हि कमेरी रंडियां हिंदी सेक्स स्टोरीचुदयि।हिनदी मजेदार तूफानी चुदाई कहानी हिन्दीनेहा मौसी कि चुदाईमैंने मज़बूरी में गैर मर्द का लंड चूसAntar tai की cudaiचुदाई चारो की बुरजन्मदिन में परिवार में सामूहिक चुदाई.comबाबुजी के धोती मे मोटा लंडbewafa chachi ki kahaniअन्तर्वासनामो सी की चूतkamuktaचुदाई घर बहन भुआचूत चुदाईआँटी ने बस में मेजे से चुदाईलड़की की चूतभाभीकीचुदाईयात्रा में माँ बेटे की चुदाई कहानीपुच्ची रसMoapsi ki chudae xxx porn vmangalsutra land me lapet di bhabhi chudai video