वासना की अग्नि -2


Click to Download this video!

जब उनकी हथेली चूचियों पर से गुज़रती तो वे दबती नहीं बल्कि स्वाभिमान में उठी रहतीं। मास्टरजी को स्वर्ग का अनुभव हो रहा था। इसी दौरान उन्हें एक और अनुभव हुआ जिसने उन्हें चौंका दिया, उनका लिंग अपनी मायूसी त्याग कर फिर से अंगडाई लेने की चेष्टा कर रहा था। मास्टरजी को अत्यंत अचरज हुआ। उन्होंने सोचा था कि दो बार के विस्फोट के बाद कम से कम १२ घंटे तक तो वह शांत रहेगा। पर आज कुछ और ही बात थी। उन्हें अपनी मर्दानगी पर गरूर होने लगा। चिंता इसलिए नहीं हुई क्योंकि प्रगति का सिर ढका हुआ था और वह कुछ नहीं देख सकती थी। मास्टरजी ने अपने लिंग को निकर में ही ठीक से व्यवस्थित किया जिस से उसके विकास में कोई बाधा न आये।

जब तक प्रगति की आँखें बंद थीं उन्हें अपने लंड की उजड्ड हरकत से कोई आपत्ति नहीं थी। वे एक बार फिर प्रगति के पेट के ऊपर दोनों तरफ अपनी टांगें करके बैठ गए और उसकी नाभि से लेकर कन्धों तक मसाज करने लगे। इसमें उन्हें बहुत आनंद आ रहा था, खासकर जब उनके हाथ बोबों के ऊपर से जाते थे। कुछ देर बाद मास्टरजी ने अपने आप को खिसका कर नीचे की ओर कर लिया और उसके घुटनों के करीब आसन जमा लिया। अपना वज़न उन्होंने अपनी टांगों पर ही रखा जिससे प्रगति को थकान या तकलीफ़ न हो।
मास्टरजी के घर से चोरों की तरह निकल कर घर जाते समय प्रगति का दिल जोरों से धड़क रहा था। उसके मन में ग्लानि-भाव था। साथ ही साथ उसे ऐसा लग रहा था मानो उसने कोई चीज़ हासिल कर ली हो। मास्टरजी को वशीभूत करने का उसे गर्व सा हो रहा था। अपने जिस्म के कई अंगों का अहसास उसे नए सिरे से होने लगा था। उसे नहीं पता था कि उसका शरीर उसे इतना सुख दे सकता है। पर मन में चोर होने के कारण वह वह भयभीत सी घर की ओर जल्दी जल्दी कदमों से जा रही थी।

यह कहानी भी पड़े मेरी शरीफ बहन को धोबी ने छिनाल बना दिया

जैसे किसी भूखे भेड़िये के मुँह से शिकार चुरा लिया हो, मास्टरजी गुस्से और निराशा से भरे हुए दरवाज़े की तरफ बढ़े। उन्होंने सोच लिया था जो भी होगा, उसकी ख़ैर नहीं है।

“अरे भई, भरी दोपहरी में कौन आया है?” मास्टरजी चिल्लाये।

जवाब का इंतज़ार किये बिना उन्होंने दरवाजा खोल दिया और अनचाहे महमान का अनादर सहित स्वागत करने को तैयार हो गए। पर दरवाज़े पर प्रगति की छोटी बहन अंजलि को देखते ही उनका गुस्सा और चिड़चिड़ापन काफूर हो गया। अंजलि हांफ रही थी।

“अरे बेटा, तुम? कैसे आना हुआ?”

“अन्दर आओ। सब ठीक तो है ना?” मास्टरजी चिंतित हुए। उन्हें डर था कहीं उनका भांडा तो नहीं फूट गया….
अंजलि ने हाँफते हाँफते कहा,”मास्टरजी, पिताजी अचानक घर जल्दी आ गए। दीदी को घर में ना पा कर गुस्सा हो रहे हैं।”

मास्टरजी,”फिर क्या हुआ?”

अंजलि,”मैंने कह दिया कि सहेली के साथ पढ़ने गई है, आती ही होगी।”

मास्टरजी,”फिर?”

अंजलि,”पिताजी ने पूछा कौन सहेली? तो मैंने कहा मास्टरजी ने कमज़ोर बच्चों के लिए ट्यूशन लगाई है वहीं गई है अपनी सहेलियों के साथ।”

अंजलि,”मैंने सोचा आपको बता दूं, हो सकता है पिताजी यहाँ पता करने आ जाएँ।”

मास्टरजी,”शाबाश बेटा, बहुत अच्छा किया !! तुम तो बहुत समझदार निकलीं। आओ तुम्हें मिठाई खिलाते हैं।” यह कहते हुए मास्टरजी अंजलि का हाथ खींच कर अन्दर ले जाने लगे।

अंजलि,”नहीं मास्टरजी, मिठाई अभी नहीं। मैं जल्दी में हूँ। दीदी कहाँ है?” अंजलि की नज़रें प्रगति को घर में ढूंढ रही थीं।

मास्टरजी,”वह तो अभी अभी घर गई है।”

अंजलि,” कब? मैंने तो रास्ते में नहीं देखा…”

मास्टरजी,”हो सकता है उसने कोई और रास्ता लिया हो। जाने दो। तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो।”

मास्टरजी ने अंजलि से पूछा,”तुम चाहती हो ना कि दीदी के अच्छे नंबर आयें? हैं ना ?”

अंजलि,”हाँ मास्टरजी। क्यों? ”

मास्टरजी,”मैं तुम्हारी दीदी के लिए अलग से क्लास ले रहा हूँ। वह बहुत होनहार है। क्लास में फर्स्ट आएगी।”

अंजलि,”अच्छा?”

मास्टरजी,”हाँ। पर बाकी लोगों को पता चलेगा तो मुश्किल होगी, है ना ?”

यह कहानी भी पड़े एक कुंवारी लड़की की चुदाई

अंजलि ने सिर हिला कर हामी भरी।

मास्टरजी,”तुम तो बहुत समझदार और प्यारी लड़की हो। घर में किसी को नहीं बताना कि दीदी यहाँ पर पढ़ने आती है। माँ और पिताजी को भी नहीं…. ठीक है?”

अंजलि ने फिर सिर हिला दिया…..

मास्टरजी,”और हाँ, प्रगति को बोलना कल 11 बजे ज़रूर आ जाये। ठीक है? भूलोगी तो नहीं, ना ?”

अंजलि,”ठीक है। बता दूँगी…। ”

मास्टरजी,”मेरी अच्छी बच्ची !! बाद में मैं तुम्हें भी अलग से पढ़ाया करूंगा।” यह कहते कहते मास्टरजी अपनी किस्मत पर रश्क कर रहे थे। प्रगति के बाद उन्हें अंजलि के साथ खिलवाड़ का मौक़ा मिलेगा, यह सोच कर उनका मन प्रफुल्लित हो रहा था।

मास्टरजी,”तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो !”

“बाद में खाऊँगी” बोलते हुए वह दौड़ गई।

अगले दिन मास्टरजी 11 बजे का बेचैनी से इंतज़ार रहे थे। सुबह से ही उनका धैर्य कम हो रहा था। रह रह कर वे घड़ी की सूइयां देख रहे थे और उनकी धीमी चाल मास्टरजी को विचलित कर रही थी। स्कूल की छुट्टी थी इसीलिये उन्होंने अंजलि को ख़ास तौर से बोला था कि प्रगति को आने के लिए बता दे। कहीं वह छुट्टी समझ कर छुट्टी न कर दे।
वे जानते थे 10 से 4 बजे के बीच उसके माँ बाप दोनों ही काम पर होते हैं। और वे इस समय का पूरा पूरा लाभ उठाना चाहते थे। उन्होंने हल्का नाश्ता किया और पेट को हल्का ही रखा। इस बार उन्होंने तेल मालिश करने की और बाद में रति-क्रिया करने की ठीक से तैयारी कर ली। कमरे को साफ़ करके खूब सारी अगरबत्तियां जला दीं, ज़मीन पर गद्दा लगा कर एक साफ़ चादर उस पर बिछा दी। तेल को हल्का सा गर्म कर के दो कटोरियों में रख लिया। एक कटोरी सिरहाने की तरफ और एक पायदान की तरफ रख ली जिससे उसे सरकाना ना पड़े। साढ़े १० बजे वह नहा धो कर ताज़ा हो गए और साफ़ कुर्ता और लुंगी पहन ली। उन्होंने जान बूझ कर चड्डी नहीं पहनी।

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


चूत का मज़ा विधवा ने दियाKomal sex picदेसी चूत नईसेक्सी कहानी vilege ke मुखिया का लड़का aur शहर की लड़कीअमी को ईद पर चोदाbus me anjaan se chudayiek majboor pati ki dastan kahaniदेसी चूत नईचाची को चोदा सेक्स स्टोरीचोदु परिवार की चुदाईबहन को छोड़ा छत पे हिंदी सटोरिएsex story bhai se nikahKamukata naurseammi ki chudai toor mepadosi ladki antervasna rajayiहिन्दी जोर दार चुदाई कि कहानीwww barrezesh xxxRajsarma sex stori hindinate bakt bhena ke codae story hinde meकिराएदार से पोर्न हिन्दी स्टोरीmummy ne mere samane kapade badale hindi sex storychhotibahankichudaiचुदाई चारो की बुरmalkin ki chudainagi.aurat.chodyta.dakha.khaniपत्नी समज के छोटी बहन की चुदाई स्टोरीma ne muskurate hue chudai ke liye tyarभाभी ने गाँड कि गपागप चुदाईपड़ोसन चोदेगाठंडा मे बहन माँ को चुदाई कहानीasadharan rishton me chudaiताऊ जी का लन्ड मम्मी की चूत मेंचुदाई लड़की कामेरी मम्मी के चहरे में सुबह मुस्कान थी सेक्स स्टोरीantarvasna.karvachoth pe muslim se chudhiammi ki chudai toor meचाची ने रात को लौंडा चूसा सेक्स स्टोरीजkamuk malkin hindi femdom storiesSasur bahu ki damdar chudaixxx khani beta ko mooth marte maa ne dekhaहाये रे मार डालेगा क्या sex kahaniAntarvasna baba ka ashramजवाजवीची गोष्टसाली की चुदाईमाँ ने बेटी चुदाईबिना कपड़ो की चुदाईwww.chod.chod.ke.ruladiya.hindi.sex.kahaniनदी किनारे सेक्स स्टोरी हिन्दीमाँ की चुदाई अंकल से नई कहानियामाँ को तेल मालिश चुदाई हिंदी कहानीचूत चुदाईदीदी चूत दिलवा दोma kamla ki gand ka dewana uska he beta bhabhi sexy storiesमैँने लंड हिला-हिला के पिया कहानीindiya he indiya porn hd hindi galiwlaलंड पे मंगलसूत्र लपेट के चूसराजपूतनी के सेक्सी विड़यो चुनरी घाघरा मैं तेरी माँ हूँ मत कर ऐसा सेक्स स्टोरीAndhera khade 2 lund liya chupchap incestचुतbin mange chut mil gyibono bhabhi ne nanad ko chudaya sex storyमम्मी की,मस्त चूदाईबुबस को दबाकर लाल कर दिएजाआअबेटे ने गान्ड मालिश की मेरे बुर को चोद कर प्यास बुझाईsavita bhabhi ka chuide hinde ma bata kartu huममी के घाघरे में तीन लुंड सेक्स स्टोरीजBhanjidi ko land ka maja diya hindi sex story. Comदीवाली सेक्स स्टोरीwww.hindi me sexse kok shastir.comवीधवा भाभी ने मुठ मारी चुदाई की कहानीयामेरे नंगे लंड की मालिश कहानीभाभीकीचुदाईmanogmoveचूत चुदाईदीदी का सेक्सी बदन कहानी राज शर्मा land chut sax khaniभाई ने धोखे से चुदाई कीphigar,sexऊऊईईbeizzat mat karo hindi sex storiesbehan ka gangbang birthday sex storyनदी किनारे चूत पुकारेरीतु चुदाई दीदी शरदीतै की चुदाई देसी बीस कॉमkamukta.mona.babe.ke.cut.mareचूतbhaha ne mere land konahlaya chudai khani hindiमम्मी की सहेली की चुदाईbhabhikichudaibolkenagi.aurat.chodyta.dakha.khani