वासना की अग्नि -2


जब उनकी हथेली चूचियों पर से गुज़रती तो वे दबती नहीं बल्कि स्वाभिमान में उठी रहतीं। मास्टरजी को स्वर्ग का अनुभव हो रहा था। इसी दौरान उन्हें एक और अनुभव हुआ जिसने उन्हें चौंका दिया, उनका लिंग अपनी मायूसी त्याग कर फिर से अंगडाई लेने की चेष्टा कर रहा था। मास्टरजी को अत्यंत अचरज हुआ। उन्होंने सोचा था कि दो बार के विस्फोट के बाद कम से कम १२ घंटे तक तो वह शांत रहेगा। पर आज कुछ और ही बात थी। उन्हें अपनी मर्दानगी पर गरूर होने लगा। चिंता इसलिए नहीं हुई क्योंकि प्रगति का सिर ढका हुआ था और वह कुछ नहीं देख सकती थी। मास्टरजी ने अपने लिंग को निकर में ही ठीक से व्यवस्थित किया जिस से उसके विकास में कोई बाधा न आये।

जब तक प्रगति की आँखें बंद थीं उन्हें अपने लंड की उजड्ड हरकत से कोई आपत्ति नहीं थी। वे एक बार फिर प्रगति के पेट के ऊपर दोनों तरफ अपनी टांगें करके बैठ गए और उसकी नाभि से लेकर कन्धों तक मसाज करने लगे। इसमें उन्हें बहुत आनंद आ रहा था, खासकर जब उनके हाथ बोबों के ऊपर से जाते थे। कुछ देर बाद मास्टरजी ने अपने आप को खिसका कर नीचे की ओर कर लिया और उसके घुटनों के करीब आसन जमा लिया। अपना वज़न उन्होंने अपनी टांगों पर ही रखा जिससे प्रगति को थकान या तकलीफ़ न हो।
मास्टरजी के घर से चोरों की तरह निकल कर घर जाते समय प्रगति का दिल जोरों से धड़क रहा था। उसके मन में ग्लानि-भाव था। साथ ही साथ उसे ऐसा लग रहा था मानो उसने कोई चीज़ हासिल कर ली हो। मास्टरजी को वशीभूत करने का उसे गर्व सा हो रहा था। अपने जिस्म के कई अंगों का अहसास उसे नए सिरे से होने लगा था। उसे नहीं पता था कि उसका शरीर उसे इतना सुख दे सकता है। पर मन में चोर होने के कारण वह वह भयभीत सी घर की ओर जल्दी जल्दी कदमों से जा रही थी।

यह कहानी भी पड़े होली में रंग लगाने के बहाने सगे देवर ने मेरी कसके ठुकाई की

जैसे किसी भूखे भेड़िये के मुँह से शिकार चुरा लिया हो, मास्टरजी गुस्से और निराशा से भरे हुए दरवाज़े की तरफ बढ़े। उन्होंने सोच लिया था जो भी होगा, उसकी ख़ैर नहीं है।

“अरे भई, भरी दोपहरी में कौन आया है?” मास्टरजी चिल्लाये।

जवाब का इंतज़ार किये बिना उन्होंने दरवाजा खोल दिया और अनचाहे महमान का अनादर सहित स्वागत करने को तैयार हो गए। पर दरवाज़े पर प्रगति की छोटी बहन अंजलि को देखते ही उनका गुस्सा और चिड़चिड़ापन काफूर हो गया। अंजलि हांफ रही थी।

“अरे बेटा, तुम? कैसे आना हुआ?”

“अन्दर आओ। सब ठीक तो है ना?” मास्टरजी चिंतित हुए। उन्हें डर था कहीं उनका भांडा तो नहीं फूट गया….
अंजलि ने हाँफते हाँफते कहा,”मास्टरजी, पिताजी अचानक घर जल्दी आ गए। दीदी को घर में ना पा कर गुस्सा हो रहे हैं।”

मास्टरजी,”फिर क्या हुआ?”

अंजलि,”मैंने कह दिया कि सहेली के साथ पढ़ने गई है, आती ही होगी।”

मास्टरजी,”फिर?”

अंजलि,”पिताजी ने पूछा कौन सहेली? तो मैंने कहा मास्टरजी ने कमज़ोर बच्चों के लिए ट्यूशन लगाई है वहीं गई है अपनी सहेलियों के साथ।”

अंजलि,”मैंने सोचा आपको बता दूं, हो सकता है पिताजी यहाँ पता करने आ जाएँ।”

मास्टरजी,”शाबाश बेटा, बहुत अच्छा किया !! तुम तो बहुत समझदार निकलीं। आओ तुम्हें मिठाई खिलाते हैं।” यह कहते हुए मास्टरजी अंजलि का हाथ खींच कर अन्दर ले जाने लगे।

अंजलि,”नहीं मास्टरजी, मिठाई अभी नहीं। मैं जल्दी में हूँ। दीदी कहाँ है?” अंजलि की नज़रें प्रगति को घर में ढूंढ रही थीं।

मास्टरजी,”वह तो अभी अभी घर गई है।”

अंजलि,” कब? मैंने तो रास्ते में नहीं देखा…”

मास्टरजी,”हो सकता है उसने कोई और रास्ता लिया हो। जाने दो। तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो।”

मास्टरजी ने अंजलि से पूछा,”तुम चाहती हो ना कि दीदी के अच्छे नंबर आयें? हैं ना ?”

अंजलि,”हाँ मास्टरजी। क्यों? ”

मास्टरजी,”मैं तुम्हारी दीदी के लिए अलग से क्लास ले रहा हूँ। वह बहुत होनहार है। क्लास में फर्स्ट आएगी।”

अंजलि,”अच्छा?”

मास्टरजी,”हाँ। पर बाकी लोगों को पता चलेगा तो मुश्किल होगी, है ना ?”

यह कहानी भी पड़े Suhagraat Ke 15 Din Baad Bhabhi

अंजलि ने सिर हिला कर हामी भरी।

मास्टरजी,”तुम तो बहुत समझदार और प्यारी लड़की हो। घर में किसी को नहीं बताना कि दीदी यहाँ पर पढ़ने आती है। माँ और पिताजी को भी नहीं…. ठीक है?”

अंजलि ने फिर सिर हिला दिया…..

मास्टरजी,”और हाँ, प्रगति को बोलना कल 11 बजे ज़रूर आ जाये। ठीक है? भूलोगी तो नहीं, ना ?”

अंजलि,”ठीक है। बता दूँगी…। ”

मास्टरजी,”मेरी अच्छी बच्ची !! बाद में मैं तुम्हें भी अलग से पढ़ाया करूंगा।” यह कहते कहते मास्टरजी अपनी किस्मत पर रश्क कर रहे थे। प्रगति के बाद उन्हें अंजलि के साथ खिलवाड़ का मौक़ा मिलेगा, यह सोच कर उनका मन प्रफुल्लित हो रहा था।

मास्टरजी,”तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो !”

“बाद में खाऊँगी” बोलते हुए वह दौड़ गई।

अगले दिन मास्टरजी 11 बजे का बेचैनी से इंतज़ार रहे थे। सुबह से ही उनका धैर्य कम हो रहा था। रह रह कर वे घड़ी की सूइयां देख रहे थे और उनकी धीमी चाल मास्टरजी को विचलित कर रही थी। स्कूल की छुट्टी थी इसीलिये उन्होंने अंजलि को ख़ास तौर से बोला था कि प्रगति को आने के लिए बता दे। कहीं वह छुट्टी समझ कर छुट्टी न कर दे।
वे जानते थे 10 से 4 बजे के बीच उसके माँ बाप दोनों ही काम पर होते हैं। और वे इस समय का पूरा पूरा लाभ उठाना चाहते थे। उन्होंने हल्का नाश्ता किया और पेट को हल्का ही रखा। इस बार उन्होंने तेल मालिश करने की और बाद में रति-क्रिया करने की ठीक से तैयारी कर ली। कमरे को साफ़ करके खूब सारी अगरबत्तियां जला दीं, ज़मीन पर गद्दा लगा कर एक साफ़ चादर उस पर बिछा दी। तेल को हल्का सा गर्म कर के दो कटोरियों में रख लिया। एक कटोरी सिरहाने की तरफ और एक पायदान की तरफ रख ली जिससे उसे सरकाना ना पड़े। साढ़े १० बजे वह नहा धो कर ताज़ा हो गए और साफ़ कुर्ता और लुंगी पहन ली। उन्होंने जान बूझ कर चड्डी नहीं पहनी।

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


मेरा लंड सिकंदर बड़ी साली की चूत के अन्दर-4Mousi na foreplay sikhaya saadi sa phale khani.आंटी की चुदाईएक दूजे के लिए सेक्स कहानीchudai इजाजत दी पति नेबहन की अंग प्रदर्शन की कहानियाँsexy besharam biwi kathaविधवा मैडम को चोदाchudai इजाजत दी पति नेपहिली रात मे सामूहिक चुडाईमाँ को मसा ने रजाई में पेल कर गर्भवती कियाBreast sahlate rhne se Kya hogaचुदाई एक गाँव की कहानीसफर सेक्स स्टोरीwww barrezesh xxxचुदाई चारो की बुरबेटी की सेक्सी कहानीमैंने धीरे से उसकी स्कर्टdod dba kar cohdawww.chod.chod.ke.ruladiya.hindi.sex.kahaniXxx.sex.ma.bheta.bavu.kahaniya.comदीदी को बेहोश कर चुची चुसाईमौसी की चूतLadkiyon ko shadi main dikhao xx image underwearमाँ को मसा ने रजाई में पेल कर गर्भवती कियाchutchudwaiअन्तर्वासना .bua.ko.ghar.ki.bathroom.me.chodaantervasna,com foji untiबीवी बनी छिनाल सेक्स स्टोरीकावेरी सेक्सी कहानीbahu ki chut sasur ka londaTenish bhol sex xxx v comGaon me randi ki gand mari kachhii fadkarsex story ma or didi or biwi or khet majdur parivar.comSalma antarvasnaसुवागरात की मजा की कहानियाँनौकर ने दोनों लड़कियों को चोदामुझे लौडा चुसना हे हरामी कहानीsheela ki sasurji se chudai sex storiesमामी के बुर मेलंड कहानीबोल बोल नहीं बोलती कहानियां डॉट कॉमantarvasna group potiचुत.alluremजानकर बहन की चोदामाँ को नंगा नहाते देखा बीटा हिंदी कहानीsamuhik sex humera hindi historymashab ne medam ki choodai ki kahaniantarvasna मुझे लगा कि मैं इसे नहीं ले पाऊँगीएक अनोखा संयोग 2 sex stories मा को ब्रा पसंत है सेक्सी हिंदी कहाणीSamuhik chudai ki kahaniya gundo ke sath meantervasna dot comxxx ghachak ghachak chudai jabarjastiबुबस को दबाकर लाल कर दिएछोति बहन को चोदाMeri उत्तेजना sex storyअन्तर्वासना सेक्सी सफर कहनिया ट्रैन मईmasi or uski saheli ki pyas bhujhaibhabi ne mujhse bra ke hook lagawa kar chudwal liya sex storibacchi ki barbadi sex storyमौसि के chakkar me maa ko chod diya sex ki sachi kahaniya.inushs की chuadai कहानीमाँ की चुदाई नाहते समय सेक्सी स्टोरी हिंदीपरिवार मे चुदाई - ये कैसा ससुरालएक बार लौडा दे दे कमीनेxxxgiral farind HindiNadi mai facha fach chudaiJebardasti saxy vi hindi kurti or pejami mJawan ladki ki chudaimasag palar vale kee antrvasnaपापा ने रात को चोदामैं मेरी सहेली ने मेरी चूत चुदाई गैर मर्द के मोटे लुंड सेपत्नी समज के छोटी बहन की चुदाई स्टोरी//buyprednisone.ru/maried-aunty-ki-antarvasna-sex/बाती की चूत फट गईmere doodh ki tanki sex story hindiमौसी कि चूतchoot me मक्खन डालनाSalma antarvasnaTrain main anjan ladki ki chudaiराज शर्मा इन्सेस्ट स्टोरीpati patni ki swapping storysex100%vetnamभाभीचुत मे लाँडxxxgiral farind HindiPayal birthday sexy story हिन्दी अंतरवसना सेक्सी फोटो कहानी सिस्टर जबरदस्त छोडा ब्लैक मेल कर मालिश माँ सेक्सी वीडियोसशादी मे बहु के बुर झाट देखा कर की चोदई की कहनीनौकर ने दोनों लड़कियों को चोदाPorn Babli kaki ghu hindi kahaniमाँ और मौसी की चुदाईbeta ne mom की kichin me चुदाई की कहानीhule bud chudaiभाई ने धोखे से चुदाई कीलडकी चुतpav roti jesi chut chodi storymai hu anjali chudai story